खोज

Vatican News
रोम में स्थित संत अनस्तासिया माइनर बसीलिका वाटिकन द्वार सीरो-मालाबार कलीसिया के लिए दी गई है। रोम में स्थित संत अनस्तासिया माइनर बसीलिका वाटिकन द्वार सीरो-मालाबार कलीसिया के लिए दी गई है। 

पोप ने सीरो-मालाबार धर्माध्यक्षों को साथ चलने का किया आह्वान

संत पापा फ्राँसिस ने सीरो-मालाबार कलीसिया के सदस्यों से अपनी कलीसिया की अधिक भलाई और एकता के लिए पवित्र "युखरीस्तीय" समारोह मनाने की एक समान पद्धति को लागू करने का आग्रह किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 7 जुलाई 2021 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने सीरो-मालाबार कलीसिया के धर्माध्यक्षों, पुरोहितों, धर्मसंघियो, धर्मबहनों और लोकधर्मियों को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्हें अपनी कलीसिया की बेहतरी और एकता के लिए समान तरीके के पवित्र मिस्सा मनाने के लिए आमंत्रित किया है। सीरो-मालाबार केरल में स्थित एक पूर्वी काथलिक मेजर आर्चएपिस्कोपल कलीसिया है। पवित्र मिस्सा को पूर्वी सिरियक अरामी भाषा में पवित्र कुर्बाना कहा जाता है और जिसका अर्थ है पवित्र 'यूखरिस्त'।

3 जुलाई को अपने पत्र में, संत पापा ने 1999 में सिरो-मालाबार कलीसिया के धर्माध्यक्षों की धर्मसभा द्वारा सर्वसम्मति से किए गए समझौते को याद किया और इसे एक महत्वपूर्ण कदम मानते हुए कलीसिया के भीतर स्थिरता और कलीसियाई एकता को बढ़ाने की दिशा में पवित्र कुर्बाना को एक समान तरीके से मनाने के लिए बाद के वर्षों में बार-बार समर्थन किया।

उन्होंने लिखा, "महान जयंती वर्ष 2000 में इस विकास को लागू करने की दिशा में किए गए ठोस प्रयासों ने मेरे पूर्ववर्ती संत पापा जॉन पॉल द्वितीय को आपके सुई यूरिस गिरजाघऱ में खुशी का विश्वास दिलाया।"

संत पापा ने उल्लेख किया कि कुछ कठिनाइयों के बावजूद, जिनके लिए सीरो-मालाबार कलीसिया के जीवन में निरंतर समझ की आवश्यकता है, "यूखरीस्तीय समारोह के लिए स्वीकृत मानदंडों ने उन जगहों पर, विशेष रूप से मिशनरी धर्मप्रांत, जहां पूरा समुदाय सुसमाचार प्रचार सहित शांतिपूर्ण और विभिन्न प्रार्थना धर्मविधियों में शामिल होते हैं, पवित्र आत्मा की प्रेरणा से कलीसिया बहुत फलदायी होती है।

संत पापा फ्राँसिस ने लिखा, "मैं सिरो-मालाबार धर्माध्यक्षों से आग्रह करता हूँ कि वे दृढ़ रहें और ईश्वर के लोगों के साथ 'एक साथ चलने' की मैं पुष्टि करता हूँ, यह विश्वास करते हुए कि 'समय अंतरिक्ष से बड़ा है' (सीएफ एवांजली गौदियुम, 222-225) और यह कि संघर्ष में एकता की जीत होती है।' (सीएफ इबिद, 226-230), "

उन्होंने कहा कि वे "न्यू राज़ा क़ुर्बाना टक्सा" (नया समारोही मिस्सा ग्रंथ) की मान्यता के अवसर पर सभी पुरोहितों, धर्मसंधियों को प्रोत्साहित करते हैं और पवित्र क़ुर्बाना को मनाने की एक समान विधि के कार्यान्वयन के लिए आगे बढ़ने हेतु प्रेरित करते हैं।"

इस प्रक्रिया को सिरो-मालाबार कलीसिया की "अधिक भलाई और एकता के लिए" आवश्यक बताते हुए, संत पापा ने कलीसिया के सभी सदस्यों के बीच "सद्भाव, भाईचारे और एकता" का आह्वान किया, क्योंकि वे धर्मसभा के फैसले को लागू करने के लिए काम करते हैं।

उन्होंने प्रार्थना में अपनी सभी निकटता का आश्वासन देते हुए और धन्य कुवांरी मरियम, संत जोसेफ और प्रेरित संत थॉमस की मध्यस्ता का आह्वान करते हुए अपना पत्र समाप्त किया।

 

07 July 2021, 14:48