खोज

Vatican News
फिलिस्तीनी प्रवासी  कैम्प के बच्चे मीरा कायम के साथ जो उन्हें फिलीस्तीन का इतिहास बताती हैं। फिलिस्तीनी प्रवासी कैम्प के बच्चे मीरा कायम के साथ जो उन्हें फिलीस्तीन का इतिहास बताती हैं।  (AFP or licensors)

संत पापा का 20 एवं 21 जून का ट्वीट संदेश

संत पापा फ्राँसिस ने सभी विश्वासियों को प्रभु से विश्वास में दृढ़ बने रहने की कृपा मांगने हेतु प्रेरित किया। उन्होंने म्यांमार के लोगों के लिए प्रार्थना की साथ ही सभी प्रवासियों के लिए अपना हृदय खोलने हेतु सभी लोगों का आह्वान किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 21 जून 2021(रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने काथलिक पंचांग के अनुसार 12वे सामान्य रविवार के लिए निर्धारित संत मारकुस के सुसमाचार पर चिंतन करते हुए सभी विश्वासियों को हर परिस्थिति में ईश्वर की खोज जारी रखने की प्रेरणा देते हुए ट्वीट किया।

संदेश में उन्होंने लिखा, "कितनी बार हम प्रभु को केवल जरूरत के क्षण में उन्हें जगाने के लिए जीवन की नाव के तल पर एक कोने में छोड़ देते हैं! आइए, हम प्रभु से उस विश्वास की कृपा मांगें जो सदा उन्हें खोजने, उनके हृदय के द्वार पर दस्तक देने से कभी नहीं थकती।" # (मारकुस 4:35-41)

म्यांमार के लोगों के प्रति सहानुभूति

रविवार को संत पापा ने संत पेत्रुस प्रांगण में विश्वासियों के साथ देवदूत रार्थना का पाठ करने के बाद म्यांमार के पीड़ित लोगों को याद करते हुए उनके लिए प्रार्थना की और मानव गलियारों को खोलने का अनुरोध किया।

इसी मुद्दे पर ट्वीट कर संत पापा ने संदेश में लिखा, "म्यांमार के धर्माध्यक्षों के साथ मिलकर मैं सरकार से अनुरोध करता हूँ कि मानवीय गलियारों की अनुमति दी जाए और गिरजाघरों, शिवालयों, मठों, मस्जिदों, मंदिरों, स्कूलों और अस्पतालों को तटस्थ आश्रय स्थलों के रूप में सम्मान दिया जाए। म्यांमार में शांति लाने वाले सभी लोगों के दिलों को मसीह का हृदय स्पर्श करे!"

शरणार्थियों के प्रति सहानुभूति

रविवार 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस के अवसर पर ट्वीट कर संत पापा ने सभी लोगों से शरणार्थियों के प्रति खुला रहने और उनकी मदद करने और वसुधैव कुटुम्बकम बनाने हेतु प्रेरित किया।

संदेश में उनहोंने लिखा, "आइए, हम शरणार्थियों के लिए अपना हृदय खोल दें, उनके दुख और आनंद को अपना बना लें।  हम उनके साहसी लचीलेपन से सीखें! इस तरह, हम एक साथ मिलकर एक अधिक मानवीय समुदाय, एक बड़ा परिवार बनाने में मदद कर सकते हैं।" # विश्व शरणार्थी दिवस

21 जून का ट्वीट

संत पापा ने ट्वीट कर सभी को मसीह में सही सुन्दरता और सही अर्थ के साथ जीवन को जीने हेतु प्रेरित किया। संदेश में उन्होंने लिखा, "मसीह जीवित हैं और चाहते हैं कि आप में से प्रत्येक जीवित रहें। वे इस दुनिया की सच्ची सुंदरता और युवा हैं। वहे जिसे भी स्पर्श करते हैं वह युवा हो जाता है, नया हो जाता है, उनका जीवन अर्थपूर्ण होता है।"

21 June 2021, 15:03