खोज

Vatican News
एक बुजूर्ग से मुलाकात करते संत पापा फ्रांसिस एक बुजूर्ग से मुलाकात करते संत पापा फ्रांसिस  (ANSA)

दादा-दादी और बुजुर्गों के विश्व दिवस पर पोप पूर्ण दण्डमोचन प्रदान करेंगे

वाटिकन के प्रेरितिक प्रायश्चित विभाग ने एक आज्ञप्ति जारी कर कहा है कि विश्वासियों की भक्ति बढ़ाने एवं आत्माओं की मुक्ति हेतु 25 जुलाई 2021 को दादा-दादी एवं बुजूर्गों के प्रथम विश्व दिवस के अवसर पर संत पापा फ्रांसिस पूर्ण दण्ड मोचन प्रदान करेंगे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 22 जून 2021 (रेई)- लोकधर्मी, परिवार और जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद के अध्यक्ष कार्डिनल केविन जोसेफ फारेल्ल के आग्रह पर ध्यान देते हुए दादा-दादी एवं बुजूर्गों के लिए प्रथम विश्व दिवस के अवसर पर जुलाई के चौथे रविवार को संत पापा फ्रांसिस ने कलीसिया के स्वर्गीय खजाने से यह दण्डमोचन प्रदान करेंगे। इस दण्डमोचन को प्राप्त करने के लिए सामान्य शर्तें हैं- पापस्वीकार संस्कार, पवित्र यूखरिस्त में भाग लेना और परमप्रसाद ग्रहण करना तथा संत पापा के मतलबों के लिए प्रार्थना करना।

पोप के समारोही मिस्सा में

दादा-दादी एवं बुजूर्ग तथा वे सभी विश्वासी जो पश्चाताप एवं उदारता की भावना से प्रेरित होकर, पोप फ्रांसिस द्वारा संत पेत्रुस महागिरजाघर में अर्पित समारोही ख्रीस्तयाग में सहभागी होकर अथवा विश्व के विभिन्न हिस्सों में आयोजित कार्यक्रमों में भाग लेकर, विश्वासी शोधकाग्नि की आत्माओं के लिए पूर्ण दण्डमोचन प्राप्त कर सकते हैं।

जरूरतमंद बुजूर्गों से मुलाकात में

यह दण्डमोचन उन विश्वासियों को भी प्राप्त होगा जो उस दिन कठिनाई (बीमार, परित्यक्त, विकलांग या अन्य तकलीफों) में पड़े बुजूर्ग भाई-बहनों से मुलाकात करेंगे अथवा वर्चुवल रूप से उनसे सम्पर्क करेंगे।

संचार माध्यमों के द्वारा

उन लोगों को भी यह दण्डमोचन प्राप्त होगा जो किसी गंभीर कारण से घर नहीं छोड़ सकते और दण्डमोचन प्राप्त करने की तीन शर्तों को शीघ्र पूरा करने की इच्छा से विश्व दिवस के पवित्र कार्यों में आध्यात्मिक रूप से सहभागी होंगे और करुणावान ईश्वर को अपनी प्रार्थना, दुःख या जीवन की कठिनाइयों को विशेषकर, टेलीविजन अथवा रेडियो या किसी अन्य संचार माध्यम से संत पापा के मिस्सा बलिदान के प्रसारण के दौरान चढ़ायेंगे।    

आज्ञप्ति में कहा गया है कि "कलीसिया की कुंजी, प्रेरितिक उदारता द्वारा ईश्वरीय क्षमा तक पहुँच को सुगम बनाने हेतु प्रायश्चित विभाग, पुरोहितों से आग्रह करता है कि वे पश्चताप की धर्मविधि हेतु पापस्वीकार संस्कार के लिए तैयार रहें, अपने आपको तत्पर एवं उदार भाव से उपलब्ध करें।"  

यह आज्ञप्ति दादा-दादी और बुजुर्गों के पहले विश्व दिवस के लिए मान्य है।

22 June 2021, 16:22