खोज

Vatican News
लोयोला के संत इग्नासियुस लोयोला के संत इग्नासियुस 

इग्नासियुस वर्ष हमें चीजों को नया देखने में मदद करे, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस इग्नासियुस वर्ष की शुरुआत को चिह्नित करने हेतु ऑनलाइन प्रार्थना पहल के लिए एक वीडियो संदेश प्रदान किया। 500 साल पहले, लोयोला के संत इग्नासियुस पैम्प्लोना की लड़ाई में घायल हो गए। यह घटना उन्हें हृदयपरिवर्तन की यात्रा पर ले गया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 24 मई 2021 (रेई) : ऑनलाइन प्रार्थना पहल को लोयोला के संत इग्नासियुस के मनपरिवर्तन की 500 वीं वर्षगांठ को चिह्नित करने के अवसर के रूप में मनाया जा रहा है, जिन्होंने येसु धर्मसमाज की स्थापना की। इग्नासियुस वर्ष का शुभारंभ नए सिरे से होने, इग्नासियुस के साथ तीर्थयात्री बनने और मसीह में सभी चीजों को नया देखने का समय प्रदान करता है।

इग्नासियुस वर्ष 

येसु धर्मसमाज के फादर जनरल आर्टुरो सोसा और दुनिया भर के जेसुइट पुरोहितों सहित प्रतिभागियों को स्पानी भाषा में दिये वीडियो संदेश में, संत पापा फ्राँसिस ने इग्नासियुस वर्ष के लिए इस प्रार्थना में शामिल होने पर खुशी व्यक्त की और उनकी आशा है कि सभी संत इग्नासियुस और इग्नासियुस की आध्यात्मिकता से प्रेरित होकर "इस वर्ष को हृदय परिवर्तन के अनुभव के रूप में जी सकें।"

संत पापा ने आगे कहा, "जिस घाव ने इग्नासियुस के सांसारिक सपनों को एक पल में चकनाचूर कर दिया, उसके जीवन और दुनिया के पाठ्यक्रम को बदल दिया,"  लेकिन "ईश्वर ने उसके लिए एक बड़ा सपना देखा" जो "आत्माओं की मदद करने" के बारे में था। उन्होंने कहा कि यह सपना मुक्ति के बारे में था, "येसु के साथ, विनम्र और गरीबी का जीवन जीते हुए दुनिया तक पहुंचना।" संत पापा ने गौर किया कि जीवन में हृदयपरिवर्तन दिन-ब-दिन होता रहता है और शायद ही कभी यह "एक बार और सदा के लिए होता है।"

जीवन के केंद्र में मसीह

संत पापा ने कहा, "संत इग्नासियुस ने निरंतर आत्मपरख के माध्यम से मसीह को अपने जीवन के केंद्र में रखा।  मार्ग पर चलने में सक्षम होने के लिए पथप्रदर्शन और एक कंपास होना आवश्यक है। जीवन में कई मोड़ आते हैं, लेकिन पवित्र आत्मा हमेशा स्वयं को निर्देशित करने की इजाजत देता है, जो हमें प्रभु के साथ मुलाकात की ओर ले जाता है।" इस प्रक्रिया में अन्य लोगों के साथ मुलाकात और उनकी यात्रा के दौरान मिलने वाली परिस्थितियां शामिल थीं, जहां ईश्वर ने उनका मार्गदर्शन किया। संत पापा ने कहा कि हमें भी "दूसरों की बात सुननी चाहिए" और "स्थितियों को पढ़ना चाहिए," क्योंकि "हृदयपरिवर्तन हमेशा संवाद में, ईश्वर के साथ संवाद में, दूसरों के साथ संवाद में, दुनिया के साथ संवाद में किया जाता है।"  

अंत में, उन्होंने इग्नासियुस की आध्यात्मिकता से प्रेरित लोगों को एक परिवार के रूप में एक साथ यात्रा करने के लिए प्रोत्साहित किया जो आत्माओं की मदद करते और मसीह में सभी चीजों को नया देखते हैं।

24 May 2021, 15:42