खोज

Vatican News
2021.05.24 संत दोमिनिक की कब्र पर प्रार्थना करते हुए संत पापा फ्राँसिस 2021.05.24 संत दोमिनिक की कब्र पर प्रार्थना करते हुए संत पापा फ्राँसिस 

संत पापा द्वारा दोमिनिकनों को उद्घोषणा में आगे रहने का आह्वान

संत दोमिनिक की मृत्यु की 800वीं वर्षगांठ पर संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि सुसमाचार प्रचारकों के संस्थापक सभी ईसाइयों को मिशनरी शिष्य बनने के लिए एक प्रेरणा के रूप में कार्य कर सकते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 24 मई 2021 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस कहते हैं, आज भी संत दोमिनिक "सभी बपतिस्मा प्राप्त लोगों के लिए एक प्रेरणा के रूप में सेवा कर सकते हैं, जिन्हें मिशनरी शिष्य कहा जाता है, ताकि वे सुसमाचार की रोशनी और मसीह के दयालु प्रेम के साथ दुनिया की हर 'परिधि' तक पहुंच सकें।"

दोमिनिकन धर्मसंघ के जनरल फादर को उनके संस्थापक की मृत्यु की 800 वीं वर्षगांठ पर एक पत्र में, संत पापा फ्रांसिस ने जोर दिया कि संत दोमिनिक ने "सुसमाचार के नए और जीवंत उपदेश" को अपनाया और कलीसिया के संचार में "एक ठोस गवाह" की पेशकश की।”

संत दोमिनिक का आह्वान

संत पापा ने कहा कि संत दोमिनिक का महान आह्वान,  "ईश्वर के दयालु प्रेम के सुसमाचार को सत्य और मुक्ति की शक्ति में प्रचार करना था,"जो "विश्वास और उदारता की अविभाज्यता" को दर्शाता है।

सच्चाई और प्रेम का यह मिलन अमेरिका में महान डोमिनिक पुरोहितों जैसे फ्रांसिस्को डी विटोरिया, एंटोनियो डी मोंटेसिनो और बार्टोलोमे डी लास कैसास के उदाहरणों में देखा जा सकता है और डोमिंगो डी सालाज़ार, एशिया में मनिला के पहले धर्माध्यक्ष, जिन्होंन स्थानीय लोगों की गरिमा और अधिकारों की रक्षा के लिए" महान प्रयास किया था।

अपने पत्र में, संत पापा फ्राँसिस कहते हैं, "ईश्वर की संतान और एक मानव परिवार के सदस्यों के रूप में हमारी अटूट मानवीय गरिमा का सुसमाचार संदेश हमारे अपने दिनों में कलीसिया को चुनौती देता है।" और वह डोमिनिकन लोगों को "सुसमाचार की एक नई घोषणा में सबसे आगे" आने का आह्वान करता है।

संत पापा ने बंधुत्व के आदर्श पर निर्मित अपने धर्मसंध के लिए एक "धर्मसभा" रूप की स्थापना में दोमिनिक पुरोहितों की अंतर्दृष्टि की प्रशंसा की, जिन्होंने दोमिनिकन लोगों के "भ्रातृत्व को बनाए रखते हुए ऐतिहासिक संदर्भों को बदलने" के अनुकूल होने में सक्षम बनाया।

संत दोमिनिक का कारिस्म

"भ्रातृत्व एकता और मिशनरी शिष्यत्व में संपूर्ण कलीसियाई समुदाय के निर्माण" के महत्व के बारे में दोमिनिक की समझ, की प्रसंशा करते हुए संत पापा फ्राँसिस कहते हैं कि दोमिनिकन परिवार की विभिन्न शाखाओं में प्रचार करने के दोमिनिक के कारिश्म को बहने दिया है। वे सिएना के काथरीन, फादर एंजेलिको, लीमा की संत रोस, जॉन मैकियास, कास्तेलो की मार्ग्रेटऔर दोमिनिकन धर्मसंघ के कई शहीदों सहित दोमिनिकन संतों और धन्यों की विस्तृत विविधता की ओर इशारा करते हैं, साथ ही "अनगिनत पुरुष और महिलाएं, जिन्होंने संत मार्टिन डी पोरेस की सादगी और करुणा का अनुकरण करते हुए, समाज में और दुनिया की परिधि में सुसमाचार का आनंद लाया है।"

संत पापा फ्राँसिस ने "विश्वास के रहस्यों की धार्मिक खोज के माध्यम से सुसमाचार के प्रचार में उनके उत्कृष्ट योगदान" के प्रति विशेष आभार व्यक्त किया। संत पापा लिखते हैं कि दोमिनिक ने "मसीह में ईश्वर के रहस्योद्घाटन की सेवा में" दुनिया के साथ संवाद में संलग्न होने के लिए "ध्वनि और ठोस धार्मिक गठन" के महत्व को पहचाना।

अंत में, संत पापा फ्राँसिस ने संत दोमिनिक के कब्र की अपनी यात्रा को याद किया, जहाँ उन्होंने "उनके संस्थापक के कारिश्म और उस शानदार परंपरा के प्रति निष्ठा में दृढ़ता की कृपा" के लिए प्रार्थना की, जिसके वे उत्तराधिकारी हैं ... संत पापा ने "पुरोहित और धर्मसंघीय बुलाहट के बढ़ने" के लिए भी प्रार्थना की।"

24 May 2021, 15:32