खोज

Vatican News
नवनियुक्त धर्माध्यक्ष अरूलसेल्वम रायप्पन नवनियुक्त धर्माध्यक्ष अरूलसेल्वम रायप्पन 

सालेम (भारत) के बिशप की नियुक्ति

संत पापा फ्राँसिस ने सोमवार 31 मई 2021 को पांडिचेरी और कुड्डालोर धर्मप्रांत के फादर अरुलसेल्वम रायप्पन को सालेम (भारत) धर्मप्रांत का धर्माध्यक्ष नियुक्त किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 31 मई 2021 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने पांडिचेरी और कुड्डालोर धर्मप्रांत के फादर अरुलसेल्वम रायप्पन को सालेम (भारत) के धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया है, जो वर्तमान में बैंगलोर में सेंट पीटर्स पोंटिफिकल इंस्टीट्यूट/सेमिनरी में कैनन लॉ स्टडीज केंद्र के निदेशक और पांडिचेरी और कुड्डालोर मेट्रोपॉलिटन महाधर्मप्रांत के न्यायाधीश हैं।

जीवन परिचय

फादर अरुलसेल्वम रायप्पन का जन्म 18 नवंबर 1960 को पांडिचेरी-कुड्डालोर महाधर्मप्रांत में पनरुती के निकट साथीपट्टू में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा तिंडीवनम और कुड्डालोर में हुई और उन्होंने अरुलानंदर कॉलेज (करुमाथुर, मदुरई) में दर्शनशास्त्र में स्नातक की पढ़ाई की। उन्होंने सेंट पीटर्स पोंटिफिकल इंस्टीट्यूट बैंगलोर में अपने बीटीएच अध्ययन में प्रथम स्थान प्राप्त किया। 20 मई 1986 को इनका पुरोहिताभिषेक किया गया था, उन्होंने अपने महाधर्मप्रांत में कुछ पल्लियों (कुड्डालोर, विरियूर, कराईकल और कुरुम्बागरम) में चार साल तक अपनी सेवा दी। वे जून 1990 में सेंट पीटर्स पोंटिफिकल सेमिनरी के स्टाफ में शामिल हुए और बाद में 1994 में पोंटिफिकल उर्बान यूनिवर्सिटी रोम में सुम्मा कम लौदे के साथ कैनन लॉ में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने 2000 से 2006 तक सेंट पीटर के पोंटिफिकल सेमिनरी के वाइस रेक्टर के रूप में कार्य किया। 2010 के बाद वे सेंट पीटर्स परमधर्मपीठीय संस्थान के अध्यक्ष रहे। वे, भारत के काथलिक धर्माध्यक्षीय के सम्मेलन के कानून आयोग के कार्यकारी सचिव हैं। वे पांडिचेरी महाधर्मप्रांतीय न्यायाधिकरण में न्यायाधीश के रूप में सेवा देने के अलावा कैनन लॉ सोसाइटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष के रूप में भी काम कर रहे हैं।

31 May 2021, 12:26