खोज

Vatican News
बैंकॉक में म्यांमार की सैन्य शक्ति को जब्त करने के बाद दूतावास के सामने विरोध प्रदर्शन बैंकॉक में म्यांमार की सैन्य शक्ति को जब्त करने के बाद दूतावास के सामने विरोध प्रदर्शन  (ANSA)

संत पापा ने म्यांमार के नेताओं से सबकी भलाई करने हेतु अपील की

संत पापा फ्राँसिस ने म्यांमार के हालिया राजनीतिक उथलपुथल के लिए अपनी चिंता व्यक्त की, जहां हजारों की संख्या में नागरिक सोमवार के सैन्य तख्तापलट का विरोध कर रहे हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 8 फरवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को म्यांमार के लोगों के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त की और उनके नेताओं से आम भलाई हेतु सेवा करने की इच्छा दिखाने की अपील की।

संत पेत्रुस महागिरजाघऱ के प्रांगण में देवदूत प्रार्थना के बाद संत पापा ने कहा कि मैं म्यांमार के घटनाक्रम के बारे में अवगत हूँ और इसके बारे में चिंतित हूँ। 2017 में मेरी प्रेरितिक यात्रा के बाद से इस राष्ट्र को मैं स्नेह के साथ अपने दिल के करीब रखता हूँ। "

उन्होंने कहा, "इस नाजुक क्षण में, मैं म्यांमार के लोगों के लिए अपनी आध्यात्मिक निकटता, प्रार्थना और एकजुटता को आश्वस्त करना चाहता हूँ। मैं प्रार्थना करता हूँ कि जिनके पास राजनीतिक जिम्मेदारी है, वे लोकतांत्रिक एवं सद्भावपूर्ण तरीके से सामाजिक न्याय और राष्ट्रीय स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए ईमानदारी से काम करने की इच्छा दिखायें। संत पापा ने सभी विश्वासियों को राष्ट्र के लिए प्रार्थना में शामिल होने के लिए कहा।

वर्षों में सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन

इस बीच पिछले हफ्ते के तख्तापलट की निंदा करने और निर्वाचित नेता आंग सान सू की सहित देश के अन्य सभी राजनीतिक नेताओं की रिहाई की मांग में दसियों हज़ार लोगों ने रविवार को म्यांमार में रैली की। व्यापक विरोध के दूसरे दिन, सबसे बड़े शहर यांगून में बड़ी भीड़ जमा थी।

दोपहर में, सैन्य जुंटा ने इंटरनेट की एक दिन की नाकाबंदी को समाप्त कर दिया, जिसने पिछले सोमवार तख्तापलट के बाद से गुस्से को और भड़का दिया था।

सशस्त्र पुलिस की एक पंक्ति ने बैरिकेड्स स्थापित किया, लेकिन प्रदर्शन को रोकने की कोशिश नहीं की। कुछ प्रदर्शन कारियों ने शांति के संकेत के रूप में पुलिस को फूल दिया।

तख्तापलट सेना के कमांडर मिन औंग हेलिंग द्वारा किया गया था, जिन्होंने नवंबर के चुनाव में धोखाधड़ी का दावा किया था, जिसमें वास्तव में नेता और लोकतंत्र के प्रतीक, आंग सान सू की की पार्टी ने चुनाव जीता था। निर्वाचन आयोग ने कदाचार के आरोपों को खारिज कर दिया।

सेना द्वारा शक्ति जब्त करने के बाद से 160 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

08 February 2021, 15:09