खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस और अल-अजहर के ग्रैंड इमाम, अहमद अल-तैयब संत पापा फ्राँसिस और अल-अजहर के ग्रैंड इमाम, अहमद अल-तैयब   (ANSA)

संत पापा प्रथम अंतर्राष्ट्रीय मानव बंधुत्व दिवस में भाग लेंगे

संत पापा 4 फरवरी को एक आभासी बैठक में अल-अजहर के ग्रैंड इमाम, अहमद अल-तैयब के साथ मिलकर मानव बंधुत्व के अंतर्राष्ट्रीय दिवस को चिह्नित करेंगे, इस नए वार्षिक दिवस के लिए तिथि संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा निर्धारित की गई है। यह कार्यक्रम अबू धाबी में शेख मोहम्मद बिन जायद की उपस्थिति में आयोजित किया जाएगा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 01 फरवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबू धाबी में शेख मोहम्मद बिन जायद की मेजबानी में अल-अजहर के ग्रैंड इमाम, अहमद अल-तैयब, संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस और अन्य गणमान्य लोगों की भागीदारी में संत पापा फ्राँसिस गुरुवार, 4 फरवरी को एक आभासी बैठक में अंतर्राष्ट्रीय मानव बंधुत्व दिवस मनाएंगे।  

उसी अवसर पर, मानव बंधुत्व-सम्मान दस्तावेज से प्रेरित, मानव बंधुत्व के लिए जायद अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। बैठक और पुरस्कार समारोह शुरू होने वाली कई भाषाओं में (रोम समय) 14:30 से और (जीएमटी समय) 13.30 बजे वाटिकन न्यूज, वाटिकन के मल्टीमीडिया सूचना पोर्टल और वाटिकन मीडिया द्वारा प्रसारित किया जाएगा।

"यह उत्सव संत पापा फ्राँसिस की उस अपील का जवाब है जिसे संत पापा ने विश्व के लोगों से वर्तमान शांति को बनाये रखने के लिए दूसरों के साथ मुलाकात को बनाये रखने का निमत्रण दिया था। अंतर धार्मिक संवाद हेतु परमधर्मपीठीय समिति के अध्यक्ष कार्डिनल मिगुएल ऐंजल अयूसो गुइकोट ने जोर देते हुए कहा, "अक्टूबर 2020 में, यह निमंत्रण विश्वपत्र फ्रातेल्ली तुत्ती के साथ और भी ज्वलंत हो गया। ये बैठकें सच्ची सामाजिक मित्रता को प्राप्त करने का एक तरीका है, जैसा कि संत पापा हमसे अपील करते हैं।"

तारीख कोई संयोग नहीं है, 4 फरवरी 2019 को, संयुक्त अरब अमीरात की प्रेरितिक यात्रा के दौरान संत पापा फ्राँसिस  अल-अजहर (काहिरा) के ग्रैंड इमाम, अहमद अल-तैयब के साथ मिलकर, विश्व शांति और एक साथ रहने के लिए मानव बंधुत्व के दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर किए। संत पापा और ग्रैंड इमाम ने लगभग आधा साल इस दस्तावेज़ का मसौदा तैयार करने में बिताया, जब तक कि उन्होंने ऐसी ऐतिहासिक यात्रा के दौरान एक साथ इसकी घोषणा नहीं की।

कुछ महीने बाद मानव बंधुत्व की उच्च समिति मानव भाईचारा दस्तावेज़ की आकांक्षाओं को निरंतर जोड़ने और ठोस कार्यों को बढ़ावा देने के लिए स्थापित किया गया था ताकि भाईचारे, एकजुटता, सम्मान और आपसी समझ को बढ़ावा दिया जा सके। उच्च समिति अबू धाबी के सादियात द्वीप पर एक आराधनालय, एक गिरजाघर और एक मस्जिद के साथ एक इब्राहीम परिवार गृह बनाने की योजना बना रही है। इसने मानव भाईचारा के लिए जायद अवार्ड के लिए नामांकन प्राप्त करने और विजेताओं को चुनने के लिए एक स्वतंत्र जूरी की स्थापना की, जिसका काम मानव बंधुत्व के प्रति आजीवन प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है। 2021 का पुरस्कार 4 फरवरी को दिया जाएगा।

21 दिसंबर 2020 को, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सर्वसम्मति से 4 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय मानव बंधुत्व दिवस के रूप में घोषित किया। मानव बंधुत्व की उच्च समिति के महासचिव, न्यायाधीश मोहम्मद महमूद अब्देल सलाम ने 4 अक्टूबर 2020 को विश्वकपत्र फ्रातेल्ली तुत्ती की अपनी प्रस्तुति के दौरान इस बात को रेखांकित करते हुए कहा, "मानव इतिहास के इस निर्णायक चरण में, हम एक चौराहे पर हैं: एक तरफ, सार्वभौमिक भ्रातृत्व, जिसमें मानवता आनन्दित होती है, और दूसरी ओर, एक तीव्र दुख जो लोगों के दुख और अभाव को बढ़ाएगा।"

संत पापा फ्राँसिस ने को अंतर धार्मिक संवाद हेतु परमधर्मपीठीय समिति के नेतृत्व में अंतर्राष्ट्रीय मानव बंधुत्व दिवस के उत्सव में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया है। संत पापा के वीडियो के जनवरी संस्करण में, "मानव बंधुत्व की सेवा में", संत पापा ने सभी धर्मों के विश्वास पर केंद्रित महत्व पर प्रकाश डाला: ईश्वर की पूजा और पड़ोसी प्रेम। संत पापा फ्राँसिस वीडियो में जोर देकर कहते हैं,"बंधुत्व  हमें सबों के पिता ईश्वर के सामने खुद को खोलने और दूसरे को एक भाई, एक बहन के रुप में देखने,जीवन साझा करने, या एक दूसरे का समर्थन करने, प्यार करने के लिए प्रेरित करती है।"

 अतरधार्मिक वार्ता के लिए बनी परमधर्मपीठीय सम्मेलन

काथोलिक कलीसिया और अन्य धर्मों के लोगों के बीच संबंधों और बातचीत पर काम करने के उद्देश्य से 1964 में संत पापा पॉल छठे ने  अतरधार्मिक वार्ता के लिए बनी परमधर्मपीठीय सम्मेलन की स्थापना की। वर्तमान में इसकी अध्यक्षता कार्डिनल मिगुएल ऐंजल आयूसो ग्लूकोट ने की है।

अपनी मुख्य गतिविधियों में, यह अंतरधार्मिक संवाद से संबंधित मामलों पर धर्माध्यक्षों और धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के साथ सहयोग करता है; यह अन्य धर्मों के नेताओं के साथ बैठकें, दौरे और सम्मेलन आयोजित करता है और यह विभिन्न धर्मों के बीच संवाद को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न सामग्रियों को प्रकाशित करता है।

01 February 2021, 19:50