खोज

Vatican News
2019 में प्रथम परमप्रसाद ग्रहण करनेवाले बच्चों से मुलाकात करते संत पापा फ्रांसिस 2019 में प्रथम परमप्रसाद ग्रहण करनेवाले बच्चों से मुलाकात करते संत पापा फ्रांसिस  (AFP or licensors)

सार्वजनिक भलाई हेतु संत पापा की अपील

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा ने विभिन्न घटनाओं की याद की। उन्होंने म्यानमार के लोगों, नाबालिग अप्रवासियों एवं इटली में जीवन दिवस की विशेष याद की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 8 फरवरी 2021 (रेई)- संत पापा ने कहा, "इन दिनों मैं बड़ी चिंता के साथ म्यानमार में उत्पन्न स्थिति को देख रहा हूँ, एक ऐसा देश जिसको 2017 में मेरी प्रेरितिक यात्रा के बाद से ही अपने हृदय में बड़े स्नेह के साथ रखता हूँ। इस जटिल परिस्थिति में, मैं पुनः म्यानमार के लोगों के प्रति अपना आध्यात्मिक सामीप्य, अपनी प्रार्थना और एकात्मता व्यक्त करता हूँ और प्रार्थना करता हूँ कि जिन लोगों को देश के प्रति जिम्मेदारी है वे ईमानदारी के साथ अपने आपको सार्वजनिक भलाई में लगा सकें, सामाजिक न्याय और सौहार्दपूर्ण सहअस्तित्व हेतु राष्ट्रीय स्थिरता को बढ़ावा दें।"

नाबालिग अप्रवासियों

तत्पश्चात् संत पापा ने नाबालिग अप्रवासियों के लिए अपील की जो अकेले होते हैं। संत पापा ने कहा, "दुर्भाग्य से कई लोग हैं, उनमें से कई विभिन्न कारणों से अपनी जन्म भूमि छोड़ने के लिए विवश होते हैं।... और कई खतरों का सामना करते हैं।" इन दिनों मैंने बल्कान रास्ते की नाटकीय परिस्थिति के बारे सुना है।" उन्होंने लोगों से उनकी मदद का आह्वान किया।

जीवन दिवस

संत पापा ने इटली में मनाये जानेवाले जीवन दिवस की याद की। उन्होंने इस अवसर पर याद किया कि स्वतंत्रता ईश्वर प्रदत्त एक महान वरदान है जिसके द्वारा हम जीवन की प्राथमिक अच्छाई के साथ अपनी और दूसरों की अच्छाई खोज सकें और पा सकें। हमारा समाज जीवन पर हर प्रकार के हमले से चंगाई पाने में मदद पा सके ताकि हर चरण पर इसकी रक्षा हो सके। संत पापा ने इटली में जन्म दर पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा, "इटली में जन्म दर घट गया है और भविष्य खतरे में है। हम इस चिंता पर ध्यान दें और यह सुनिश्चित करने की कोशिश करें, कि यह जनसांख्यिकीय शीत समाप्त हो जाए और लड़कों और लड़कियों का एक नया वसंत आए।"

संत बकीता के पर्व

संत पापा ने संत बकीता के पर्व की याद दिलाते हुए मानव तस्करी को दूर करने में उनकी मदद की याचना करने का आह्वान किया। संत बकीता का पर्व 8 फरवरी को मनाया जाता है।

अंत में उन्होंने रोम तथा विश्व के विभिन्न हिस्सों के सभी तीर्थयात्रियों एवं पर्यटकों का अभिवादन किया तथा अपने लिए प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगलकामनाएं अर्पित की।

08 February 2021, 14:45