खोज

Vatican News
संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में  निर्मित चरनी और क्रिसमस पेड़ संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में निर्मित चरनी और क्रिसमस पेड़  (AFP or licensors)

क्रिसमस का पेड़ और चरनी, आशा के संकेत हैं, संत पापा

ख्रीस्त जयंती महोत्सव के लिए कुछ ही दिन बाकी रह गये हैं। संत पापा ने शनिवार 19 दिसम्बर को ट्वीट कर ख्रीस्त जयंती की तैयारी में लगे ख्रीस्तियों को क्रिसमस का पेड़ और चरनी, आशा के संकेत को समझने हेतु प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 19 दिसम्बर 2020 (रेई) : आगमन काल के अंतिम सप्ताह में पूरे विश्व के ख्रीस्तीय ख्रीस्त जयंती की तैयारी में लगे हुए हैं वे आध्यत्मिक तैयारी के साथ-साथ अपने घरों,चौकों और गिरजाघरों में क्रिसमस का पेड़ और चरनी बनाते हैं। संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीटकर सभी विश्वासियों को क्रिसमस के पेड़ और चरनी के अर्थ को समझने हेतु प्रेरित किया।

संत पापा ने संदेश में लिखा, ʺक्रिसमस का पेड़ और चरनी, आशा के संकेत हैं, खासकर इस कठिन समय में। आइए, हम इन संकेतों की सुन्दरता तक ही न रुकें, लेकिन इसके अर्थ को जानें, अर्थात्, येसु को, ईश्वर के उस प्रेम को जानें जिसे ईश्वर ने हमारे लिए उस असीम अच्छाई को प्रकट किया, जो दुनिया की ज्योति बने।ʺ

19 December 2020, 13:28