खोज

Vatican News
बालक येसु की प्रतिमा पकड़ी हुई एक धर्मबहन बालक येसु की प्रतिमा पकड़ी हुई एक धर्मबहन  

येसु गरीब पैदा हुए, ताकि हमें प्यार में धनी बना सके, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार 13 दिसम्बर को दो ट्वीट कर सभी ख्रीस्तियों को प्रभु का खुशी के साथ स्वागत करने हेतु खुद को तैयार करने के लिए प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार14 दिसम्बर 2020 (रेई) : काथलिक कलीसिया आगमन काल के तीसरे रविवार को ‘आनंद का रविवार’ कहती है। प्रभु के आगमन का सभी को आनंद के साथ इन्तजार है। रविवार को संत पापा फ्राँसिस ने संत पेत्रुस महागिरजा घर के प्राँगण में सभी विशावसियों के साथ देवदूत की प्रार्थना का पाठ किया। इसके पूर्व संत पापा ने सभी विश्वासियों को अपने बीच बालक येसु का स्वागत करने हेतु खुद को तैयार करने के लिए प्ररित किया। इस दिन रोम के विश्वासी अपने घरों की चरणी में बालक येसु की प्रतिमा को रखने के लिए संत पापा द्वारा आशीष दिलाने अपने साथ लाते हैं। देवदूत प्रार्थना के बाद संत पापा उन प्रतिमाओं पर आशीष देते हैं। इस संदर्भ में उन्होंने दो ट्वीट संदेश प्रषित किया।

1ला ट्वीट

पहले ट्वीट में संत पापा ने लिखा, ʺकुवांरी मरियम ने चुपचाप ईश्वर की मुक्ति के वचन का इंतजार किया, उसने शब्द स्वागत किया, उसने शब्द को ग्रहण किया, उसने शब्द को धारण किया। ईश्वर उनके करीब हो गए। यही कारण है कि कलीसिया मरियम को "हमारे आनंद का कारण" कहती है।ʺ

2रा ट्वीट

दूसरे ट्वीट में संत पापा ने लिखा, ʺमैं बालक येसु की प्रतिमाओं को आशीष देता हूँ, जिन्हें चरनी में रखा जाएगा। जब आप घर पर चरनी के सामने अपने परिवार के साथ प्रार्थना करते हैं, तो अपने आप को बालक येसु की कोमलता की ओर आकर्षित होने की अनुमति दें,जो हमारे बीच गरीब और कमजोर पैदा हुए, ताकि वे हमें अपना प्यार दे सके।ʺ

14 दिसम्बर का ट्वीट

संत पापा ने सोमवार को ट्वीट में लिखा, ʺआगमन काल हमें प्रभु से मिलने, ईश्वर से मिलने की हमारी इच्छा की परख करने और स्वयं को मसीह की वापसी के लिए तैयार करने का समय है।ʺ

14 December 2020, 14:58