खोज

Vatican News
संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में फ्रतेल्ली तूत्ती विश्व पत्र की प्रति  दिखलाते हुए विश्वासी संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में फ्रतेल्ली तूत्ती विश्व पत्र की प्रति दिखलाते हुए विश्वासी  (Vatican Media)

देवदूत प्रार्थना के उपरांत नये विश्व पत्र की प्रस्तुति

संत पापा फ्राँसिस ने देवदूत प्रार्थना के उपरांत अपने नये सामाजिक विश्व पत्र "फ्रतेल्ली तूत्ती" को प्रस्तुत किया एवं प्रांगण में उपस्थित विश्वासियों को इसकी प्रति भेंट करने की घोषणा की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा ने विश्वासियों को सम्बोधित कर कहा, "कल मैं असीसी गया था नये विश्व पत्र "फ्रातेल्ली तूत्ती" पर हस्ताक्षर करने के लिए, जो भाईचारा एवं सामाजिक मित्रता पर आधारित है। मैंने उसे संत फ्राँसिस की कब्र पर ईश्वर को समर्पित किया, जिन्होंने मुझे पहले के लौदातो सी के समान प्रेरित किया है। समय के चिन्ह स्पष्ट रूप से दिखला रहे हैं कि मानव भाईचारा एवं सृष्टि की देखभाल, समग्र विकास एवं शांति की ओर बढ़ने के एकमात्र रास्ता का निर्माण करते हैं। जिसको संत पापा जॉन 23वें, संत पापा पौल छटवें और संत पापा जॉन पौल द्वितीय ने पहले ही इंगित किया था।"

नया विश्व पत्र

तत्पश्चात् संत पापा ने अपने नये विश्व पत्र को प्रस्तुत करते हुए कहा, "आज आप जो इस प्रांगण में अथवा प्रांगण के बाहर हैं। मुझे नये विश्व पत्र की प्रति भेंट करते हुए खुशी हो रही है जो ओस्सेरवातोरे रोमानो के असाधारण संस्करण में प्रकाशित है। इस संस्करण के साथ, ओस्सेरवातोरे रोमानो दैनिक समाचार पत्र में, "संत फ्राँसिस कलीसिया, सभी धर्मों के विश्वासियों और सभी लोगों के बीच भाईचारा की यात्रा में साथ दें" की शुरूआत की जायेगी।

सृष्टि का समय

संत पापा ने सृष्टि के समय की याद करते हुए कहा, "आज सृष्टि के समय का समापन हो रहा है जिसकी शुरूआत 1 सितम्बर को हुई थी, जिसमें हमने विभिन्न कलीसियाओं के ख्रीस्तियों के साथ "धरती के लिए जयन्ती" मनाया।"

संत पापा विश्व काथलिक जलवायु आंदोलन के प्रतिनिधियों, लौदातो सी दलों एवं समग्र पारिस्थितिकी के रास्ते पर संलग्न विभिन्न संगठनों का अभिवादन किया। उन्होंने उन सभी प्रयासों को प्रोत्साहन दिया जिनको सृष्टि के समय के अंतिम दिन में सम्पन्न किया गया, खासकर, पो डेल्टा क्षेत्र में।

स्तेल्ला मारिस ओपेरा

4 अक्टूबर को 100 साल पहले स्तेल्ला मारिस ओपेरा का जन्म स्कॉटलैंड में हुआ था ताकि समुद्र में काम करनेवाले लोगों की मदद की जा सके। इस महत्वपूर्ण वर्षगाँठ पर मैं समुद्र की प्रेरिताई से जुड़े पुरोहितों एवं स्वंयसेवकों को प्रोत्साहन देता हूँ कि वे बंदरगाहों में, समुद्र कर्मियों, मछुआरों और उनके परिवारों के बीच आनन्द के साथ कलीसिया का साक्ष्य दें।

धन्य डॉन ओलिंतो मारेल्ला

धन्य डॉन ओलिंतो मारेल्ला की रविवार को धन्य घोषणा हुई जो क्योजा धर्मप्रांत के पुरोहित थे। संत पापा ने उनकी याद करते हुए कहा, "वे ख्रीस्त के हृदय के समान चरवाहे, गरीब के पिता एवं दुर्बल के रक्षक थे। उनका असाधारण साक्ष्य अनेक पुरोहितों के लिए उदाहरण बने जो ईश्वर के दीन एवं साहसी सेवक बनने के लिए बुलाये गये हैं।" तब संत पापा ने ताली बजाकर नये धन्य को सम्मानित किया।

नये स्वीस गार्ड

तत्पश्चात् संत पापा ने सभी विश्वासियों का अभिवादन करते हुए कहा, "मैं आप सभी का अभिवादन करता हूँ जो रोम एवं विभिन्न देशों से तीर्थयात्रा पर आये हुए हैं।" उन्होंने परिवारों, पल्ली दलों, संगठनों एवं विश्वासियों तथा विशेष रूप से वाटिकन स्वीस गार्ड के परिवार वालों का अभिवादन किया जो नये स्वीस गार्ड बनने के समारोह में भाग लेने आये हुए थे। संत पापा ने स्वीस गार्ड दल को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि स्वीस गार्ड अपने जीवन में कलीसिया, उसके सर्वोच्च अधिकारी की सेवा की छोटी यात्रा तय करते हैं। ये साहसी युवक 2,3,4 या उससे अधिक सालों के लिए यहाँ आते हैं। संत पापा ने ताली बजाकर उन्हें शुभकामनाएँ दीं।

अंत में, संत पापा ने प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगलकामनाएँ अर्पित की।    

05 October 2020, 15:18