खोज

Vatican News
लीमा महाधर्मप्रांत में चमत्कारों के प्रभु के सम्मान में शोभायात्रा लीमा महाधर्मप्रांत में चमत्कारों के प्रभु के सम्मान में शोभायात्रा 

ख्रीस्त हमें नहीं छोड़ते, पेरू के लोगों से संत पापा

पेरू में अक्टूबर के पहले सप्ताह में "बैंगनी महीना" की शुरूआत के साथ चमत्कारों के प्रभु की परम्परागत शोभायात्रा की जाती है। संत पापा ने पेरू के लोगों को आश्वासन दिया कि महामारी के समय भी प्रभु हमें नहीं छोड़ते हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 3 अक्टूबर 2020 (रेई)- पेरू में, अक्टूबर माह को चमत्कारों के प्रभु के लिए समर्पित किया जाता है। अक्टूबर के पहले सप्ताह में "बैंगनी महीना" की शुरूआत के साथ चमत्कारों के प्रभु की परम्परागत शोभायात्रा की जाती है। संत पापा ने पेरू के लोगों को आश्वासन दिया कि महामारी के समय भी प्रभु हमें नहीं छोड़ते हैं।

ईश्वर हमारे साथ

"बैंगनी महीना" की शुरूआत करते हुए पेरू के विश्वासियों को, संत पापा फ्राँसिस ने एक विडीयो संदेश भेजा। लीमा के महाधर्माध्यक्ष कार्लोस कास्तिलोस मत्तासोलियो को प्रेषित विडीयो संदेश उन्होंने कहा, "मैं ईश्वर की प्रजा के साथ, क्रूसित येसु को अपनी प्रार्थना अर्पित करने, उनकी दया एवं महामारी के अंत हेतु याचना करने के लिए वर्चुवल रूप से जुड़ रहा हूँ, जिसने प्रिय भूमि पर बुरा असर डाला है।"

लीमा और पेरू के अन्य कई शहरों में अक्टूबर माह को चमत्कारों के प्रभु के लिए समर्पित किया जाता है और बैंगनी वस्त्र धारण कर शोभायात्रा की जाती है। संत पाप ने कहा, "क्रूसित येसु, क्रूस पर जड़े हुए हैं, कांटी से नहीं बल्कि असीम प्रेम की शक्ति से, जो पेरू के लोगों के लिए ईश्वर के सबसे सुन्दर प्रेम का प्रमाण है। उन्होंने अपने आपको इम्मानुएल (ईश्वर हमारे साथ) के रूप में प्रकट किया, लोगों से मिलने गये, उन्हें जीवन और विश्राम प्रदान किया। अपनी करुणा और क्षमाशीलता में लोगों का आलिंगन किया।"

संत पापा ने पेरू के विश्वासियों से कहा कि 332 सालों तक ईश प्रजा अपने चरवाहे से जुड़ी रही, क्रूसित येसु के साथ भक्ति और आशा से राजधानी की सड़कों पर लम्बी शोभायात्राओं में चलती रही। इस साल शोभायात्रा सड़कों पर नहीं हो पायेगी किन्तु यह प्रभु को चमत्कार के साथ हजारों दिलों तक पहुँचने से नहीं रोक सकती जो सरल विश्वास के साथ मानते हैं कि ईश्वर ने मनुष्य को इसलिए बनाया ताकि वह अपने भाई बहनों के साथ, हर युग के दुखद रास्ते पर चलते हुए, सभी की अनिश्चितताओं एवं पीड़ाओं को बांटें, विशेषकर, उनके साथ जो सबसे गरीब, बहिष्कृत एवं अलग कर दिये गये हैं।

प्रभु हमें नहीं छोड़ते

संत पापा ने वायरस से पीड़ित लोगों की याद करते हुए कहा, "मैं इस कठिन परिस्थिति से चिंतित हूँ कि हमारे कई भाई-बहनों को वायरस का सामना करना पड़ रहा है जो न केवल उनके स्वस्थ को बल्कि पूरे जीवन को प्रभावित कर रहा है, जिसके कारण अन्याय, पीड़ा और नसमझदारी बढ़ रही है। जो उनकी व्यक्तिगत प्रतिष्ठा पर प्रहार कर रही है।"

संत पापा ने विश्वासियों को प्रोत्साहन देते हुए कहा कि घबराहट एवं असहाय महसूस करने की स्थिति जिसने प्रत्येक व्यक्ति पर वार किया है। मैं आप सभी को प्रोत्साहन देता हूँ कि आप प्रभु की ओर नजर उठायें। वे हमें नहीं छोड़ते हैं। वे हमें बुलाते और बेहद प्रेम से हमारा आलिंगन करते हैं, जो हमें चंगा करता, आराम देता एवं बचाता है।

अंत में संत पापा ने पेरू के विश्वासियों को अपनी प्रार्थना एवं आध्यात्मिक सामीप्य का आश्वासन दिया तथा उन्हें चमत्कारों के प्रभु की करुणा को समर्पित कर दिया। उन्होंने उन्हें दुःखों की माता मरियम की ममतामय स्नेह में रखते हुए अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

पेरू में कोरोना वायरस से करीब 8,21,000 लोग संक्रमित हैं और 32,000 लोगों की मौत हुई हैं। लातीनी अमरीका में कोरोना वायरस से संक्रमित होने के मामले में यह तीसरे स्थान पर है।  

 

03 October 2020, 14:20