खोज

Vatican News
ब्राजील में मिशनरी फादर जुलियो रेनातो लनचेल्लोत्ती ब्राजील में मिशनरी फादर जुलियो रेनातो लनचेल्लोत्ती  

साओ पाओलो के गरीबों के साथ सड़कों पर

रविवार को देवदूत प्रार्थना के दौरान संत पापा फ्राँसिस ने गरीबों की सेवा के लिए फादर जुलियो रेनातो लानचेल्लोत्ती का उदाहरण दिया। वे ब्राजील में इताली मिशनरी हैं तथा अपना जीवन लोगों की दयनीय स्थिति में उनकी मदद करने के लिए समर्पित किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 13 अक्टूबर 2020 (वीएन) – ब्राजील में मिशनरी फादर जुलियो रेनातो लनचेल्लोत्ती का उदाहरण देते हुए संत पापा ने कहा, "गरीबों का दूसरा सेवक जिसने गरीबों के साथ अपना जीवन जलाया। ब्राजील में 30 सालों तक व्यतीत किया है।" संत पापा ने बतलाया कि सितम्बर के अंत में उनका पत्र प्राप्त करने के बाद उन्होंने फोन पर उनसे बातें कीं।

कोविड एवं प्रतिष्ठा का हनन

अपने एक छोटे पत्र में फादर जुलियो ने साओ पौलो की सड़कों पर रहनेवाले लोगों के दयनीय जीवन पर प्रकाश डाला है। कोविड-19 ने स्थिति को अधिक जटिल बना दिया है जिसने उन्हें गरीबी में डाल दिया है, जो एक अकल्पनीय और मानव गरिमा का अभूतपूर्व उल्लंघन है। फादर जुलियो ने इसे बहुत गहराई से देखा है और संत पापा को बतलाते हैं कि वे यह देखकर आश्चर्यचकित है कि गंभीर स्वास्थ्य संकट किस तरह ब्राजील के जीवन के मूल्य पर अधिक हमलों की एक गंभीर घटना बन गयी है।

असमान संघर्ष

पत्र के साथ में संत पापा के टेबल पर फोटो भी रखे हुए थे जो मिशनरी के शब्दों की सच्चाई को प्रकट करते हैं। एक छोटी पल्ली का वैश्विक महामारी से संघर्ष की चुनौती, गरीबों के एक द्वीप का संघर्ष जो स्वास्थ्य की रक्षा के लिए बहुत कम वस्त्र पहनते हैं, कुछ स्थानों में सामाजिक दूरी बना कर रखना व्यवहारिक रूप से असंभव है और भोजन एवं अन्य सुविधाओं की कमी है। फिर भी फादर जूलियो आश्वसन देते हैं कि ये ऐसे लोग को नहीं छोड़ेंगे।    

"ईश्वर के संदेशवाहक"

पत्र में फादर जूलियो ने संत पापा के आशीर्वाद की याचना की है जिसको प्राप्त करना रोम गये बिना प्राप्त नहीं किया जा सकता। संत पापा ने उनके बारे देवदूत प्रार्थना के उपरांत कहा था कि यही हमारी माता कलीसिया है, ईश्वर की संदेशवाहक जो चौराहों पर जाती है। 

 

13 October 2020, 14:59