खोज

Vatican News
निकारागुवा में मुक्त किये गये पक्षी निकारागुवा में मुक्त किये गये पक्षी  (ANSA)

17 सितम्बर को संत पापा का ट्वीट संदेश

पृथ्वी सुन्दर है। इसकी सृष्टि के बाद स्वयं ईश्वर ने इसे पसंद किया था। संत पापा फ्राँसिस ने 17 सितम्बर के ट्वीट संदेश में इसकी सुन्दरता को निहारने के लिए प्रेरित किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 17 सितम्बर 20 (रेई)- प्रकृति के बिना मानव जीवन का अस्तित्व संभव नहीं है फिर भी मानव इससे दूर भाग रहा है। संत पापा ने सृष्टिकाल में लोगों को पुनः याद दिलाया कि हम सृष्टि की सुन्दरता पर गौर करें और इससे जुड़कर रहें।

उन्होंने 17 सितम्बर के ट्वीट संदेश में लिखा, "आज, प्रकृति जो हमारे आसपास है उसकी प्रशंसा नहीं की जाती बल्कि उसे नष्ट किया जा रहा है। हमें चिंतन में लौटना चाहिए जिससे कि हम हजारों बेकार की चीजों से न भटकाये जाएँ, हमें मौन की खोज करनी चाहिए ताकि हृदय बीमार न पड़े और हम स्थिर रह सकें।"

17 September 2020, 14:15