खोज

Vatican News
सन्त पापा फ्राँसिस आम दर्शन समारोह के समय, तस्वीरः 23.09.2020  सन्त पापा फ्राँसिस आम दर्शन समारोह के समय, तस्वीरः 23.09.2020  

सेन्ट पीटर्स सर्कल संस्था के सदस्यों को सन्त पापा का सम्बोधन

रोम शहर में सेवारत सेन्ट पीटर्स सर्कल नामक कल्याणकारी संस्था के सदस्यों ने शुक्रवार को, वाटिकन में, सन्त पापा फ्राँसिस का साक्षात्कार कर उनका सन्देश सुना। संस्था के मूलभूत सिद्धान्त हैं, "प्रार्थना - कर्म - बलिदान"।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर, वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 25 सितम्बर 2020 (रेई, वाटिकन रेडियो): रोम शहर में सेवारत सेन्ट पीटर्स सर्कल नामक कल्याणकारी संस्था के सदस्यों ने शुक्रवार को, वाटिकन में, सन्त पापा फ्राँसिस का साक्षात्कार कर उनका सन्देश सुना। संस्था के मूलभूत सिद्धान्त हैं, "प्रार्थना - कर्म - बलिदान"।

महामारी और परिवार

अपने सम्बोधन में सन्त पापा ने स्मरण दिलाया कि इस वर्ष कोरोना वाईरस महामारी तथा अन्तर-वैयक्तिक दूरी बनाये रखने की आवश्यकता के चलते अन्यों की तरह सेन्ट पीटर्स सर्कल को भी, रोम के दुर्बलों की सेवा में, अपने काम करने के तरीकों को बदलना पड़ा है। उन्होंने कहा कि महामारी की वजह से, दुर्बलों एवं बेसहारा लोगों के साथ-साथ, कई ज़रूरतमन्द परिवार भी आ जुड़े हैं, जिनकी मदद हेतु अति उदार हृदय की ज़रूरत है, जो अन्यों की व्यथा को महसूस कर सके।

सन्त पापा ने कहा कि सर्वप्रथम इस बात के प्रति जागरुक होना ज़रूरी है कि हमारे शहर द्रुतगति से निर्धन होते जा रहे हैं, भौतिक रूप से, मानवीय रूप से तथा सामाजिक रूप से भी। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में मानव मन के अन्तर में निहित घावों को पहचानने तथा उनके उपचार की आवश्यकता है, इसके लिये ज़रूरत है, दया के भाव की।  

दया और प्रार्थना

सन्त पापा जान पौल द्वितीय के शब्दों पर मनन करते हुए सन्त पापा फ्राँसिस ने कहा कि हमारा विश्व दया के लिये कुछ खास स्थान नहीं रखता प्रतीत होता है, इसलिये हममें से प्रत्येक इस धारणा को उलटने के लिये बुलाये जाते हैं। सन्त पापा ने कहा कि इसके लिये ईश्वर की करुणा का अनुभव बहुत ही महत्वपूर्ण है, जो केवल सतत् प्रार्थाना से आ सकता है। प्रार्थना ही हमारे हाथों को  अन्यों की सहायता हेतु शक्ति प्रदान करती है, अस्तु, अपनी व्यक्तिगत एवं सामुदायिक प्रार्थनाओं में हम पवित्रआत्मा से इस कृपा की याचना करना कभी न भूलें।  

सेन्ट पीटेर्स सर्कल में कार्यरत सभी सदस्यों के प्रति सन्त पापा ने आभार व्यक्त किया जो रोम की विभिन्न पल्लियों में निर्धनों के पक्ष में काम करते तथा उनके लिये अनुदान एकत्र करते हैं। इन सबके तथा इनके परिवारों के प्रति सन्त पापा ने प्रभु ईश्वर की अनुकम्पा की मंगलयाचना की तथा अपनी प्रेरितिक आशीर्वाद प्रदान किया।       

25 September 2020, 10:46