खोज

Vatican News
वाटिकन में सार्वजनिक सुरक्षा की 75वीं वर्षगांठ पर संत पापा फ्राँसिस औरसुरक्षा कर्मी वाटिकन में सार्वजनिक सुरक्षा की 75वीं वर्षगांठ पर संत पापा फ्राँसिस औरसुरक्षा कर्मी  (ANSA)

इतालवी सुरक्षा कर्मियों और वाटिकन के बीच सहयोग पर संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने सोमवार को वाटिकन में सार्वजनिक सुरक्षा की 75वीं वर्षगांठ पर महानिरीक्षक की सराहना करते हुए, वाटिकन और इटली के लिए अपनी सेवा के इतिहास का वर्णन किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 28 सितम्बर 2020 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने सोमवार को वेटिकन में सार्वजनिक सुरक्षा की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर निरीक्षणालय का प्रतिनिधित्व करने वाले दर्शकों के एक समूह को "स्नेह" व्यक्त किया। सभागार में आंतरिक मंत्री लुसियाना लामोर्गेसे और पुलिस प्रमुख फ्रेंको गेब्रियल भी उपस्थित थे।

संत पापा ने कहा कि इंस्पेक्टरेट की स्थापना की यह सालगिरह उत्सव इतालवी पुलिस के कई पुरुषों और महिलाओं के काम के प्रति ईश्वर को शुक्रिया अदा करने का एक अवसर है, जिन्होंने 75 साल तक वाटिकन और इटली के बीच उत्साहपूर्वक और जोश के साथ बंधन को बनाए रखा है।

सेवा का इतिहास

संत पापा फ्राँसिस ने याद किया कि इंस्पेक्टरेट का मिशन 1929 के लातेरन पैक्ट्स के तहत शुरु हुई। वाटिकन सिटी राज्य बनाने के अलावा, यह इतालवी अधिकारियों की देखरेख में संत पेत्रुस प्रांगण के लिए विशेष व्यवस्था भी प्रदान करता है, जहाँ तीर्थयात्रियों और पर्यटकों की नि: शुल्क पहुंच होती है। इसके बाद, मार्च 1945 में, " संत पेत्रुस का विशेष सार्वजनिक सुरक्षा कार्यालय" बनाया गया।

उन्होंने कहा, "उस कार्यालय की स्थापना के दिन से ... इटली और वाटिकन के बीच फलदायी सहयोग है और इंस्पेक्टरेट वाटिकन निकायों के सार्वजनिक व्यवस्था और संत पापा की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है।"

संत पापा ने सितंबर 1943 से जर्मन सैनिकों द्वारा रोम में नौ महीने के कब्जे का उदाहरण दिया, जिसने विश्वासियों को प्रार्थना करने के लिए संत पेत्रुस महागिरजाघर आने से रोक दिया था। उन्होंने बताया कि 4 जून 1944 को रोम की मुक्ति और महागिरजाघऱ में तीर्थयात्रियों की वापसी के बाद से, वाटिकन राज्य पुलिस का नया कार्यालय नई जरूरतों का जवाब देने में सक्षम है और इसने वाटिकन और इटली की सुरक्षा हेतु महत्वपूर्ण सेवा प्रदान की है।

कृतज्ञता

संत पापा फ्राँसिस ने उल्लेख किया कि भले ही संस्था ने अपने वर्तमान और राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्यों तक अन्य नामों को ले लिया है, साथ ही साथ सुरक्षा व्यवस्था भी बदल गई है,परंतु  इंस्पेक्टरेट के पुरुषों और महिलाओं की भावना समान बनी हुई है।

उन्होंने अपनी सेवा के लिए अधिकारियों के परिश्रम, व्यावसायिकता और बलिदान के प्रति आभार व्यक्त किया, विशेष रूप से विविध पृष्ठभूमि और संस्कृतियों के लोगों के साथ बर्ताव में उन्होंने धैर्य का प्रदर्शन किया है।

उन्होंने रोम के भीतर और इटली के अन्य राज्यों में यात्रा के दौरान उनकी प्रतिबद्धता के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। संत पापा स्वीकार करते हैं कि "एक कठिन काम है" परंतु उनका कार्य यह सुनिश्चित करता है कि संत पापा की यात्रा ईश्वर के लोगों के साथ "मुलाकात" के अपने विशिष्ट चरित्र को न खोएं।"

उच्चतम मूल्य

संत पापा फ्राँसिस ने सुरक्षाकर्मियों को अपने काम को उच्चतम मूल्यों के निरंतर अनुस्मारक के रूप में देखने के लिए प्रोत्साहित किया - मानव और आध्यात्मिक मूल्य जिन्हें दैनिक रूप से स्वीकार करने और साक्ष्य देने की आवश्यकता है।

उन्होंने यह भी उम्मीद की कि बलिदान और जोखिम के माध्यम से संपन्न उनकी कड़ी मेहनत, एक ख्रीस्तीय विश्वास से प्रेरित होगी, जो परिवार द्वारा उन्हें सौंपा गया "सबसे कीमती आध्यात्मिक खजाना" है, जिसे वे अपने बच्चों को भी सौंपे।

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "वाटिकन में सार्वजनिक सुरक्षा अपने प्रतिष्ठित इतिहास के अनुसार काम करना जारी रखेगी।" संत पापा ने इंस्पेक्टरेट के संरक्षक संत माईकेल महादूत और माता मरियम की मध्यस्ता से प्रार्थना की, कि प्रभु उन्हें और उनके परिवारों को पुरस्कृत करें और उनकी रक्षा करें।

28 September 2020, 15:58