खोज

Vatican News
क्रूसित येसु की प्रतिमा क्रूसित येसु की प्रतिमा  (ANSA)

नफरत, हिंसा, उग्रवाद उकसाने के लिए धर्मों का उपयोग बंद करें, संत

"एक दूसरे को प्यार करें क्योंकि प्रेम ईश्वर से उत्पन्न होता है। जो प्यार करता पह ईश्वर को जानता.... क्योंकि ईश्वर प्रेम है। ईश्वर के प्रेम की पहचान इस में है कि पहले हमने ईश्वर को नहीं बल्कि ईश्वर ने हमें प्यार किया।" (1 योहन 4:8,10) ईश्वर के प्रेम और मानव भ्रातृत्व पर जोर देते हुए संत पापा फ्राँसिस ने ईश्वर और धर्म के नाम पर लोगों पर अत्याचार न करने की पुकार लगाई।

माग्रेट सुनीता मिंज- वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 22 अगस्त 2020 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार 22 अगस्त को दो ट्वीट कर सभी लोगों से ईश्वर के असीम प्यार के बारे बताते हुए ईश्वर और धर्म के नाम पर लोगों पर अत्याचार करने हेतु आह्वान किया।

1 ट्वीट

पहले ट्वीट संदेश में संत पापा ने लिखा,ʺईश्वर को किसी के बचाव की आवश्यकता नहीं है और वह नहीं चाहता कि उसका नाम लोगों को आतंकित करने के लिए इस्तेमाल किया जाए। मैं हर किसी से नफरत, हिंसा, उग्रवाद और अंध कट्टरता को उकसाने के लिए धर्मों का उपयोग बंद करने के का आह्वान करता हूँ।ʺ# मानव भाईचारा

2 ट्वीट

संत पापा ने दूसरे ट्वीट में मानव के प्रति ईश्वर के बेईतहा प्यार के बारे में बताते हुए लिखा, ʺईश्वर आपसे इसलिए प्यार नहीं करता क्योंकि आप अच्छा व्यवहार करते हैं, वो आपसे प्यार करता है। उसके प्यार में कोई शर्त नहीं है,  उसका प्यार करना आप पर निर्भर नहीं करता है।ʺ

22 August 2020, 11:09