खोज

Vatican News
संत मरिया महागिरजाघर के अंदर स्थित छोटा पोरचुंगुला प्रार्थनालय संत मरिया महागिरजाघर के अंदर स्थित छोटा पोरचुंगुला प्रार्थनालय 

आप "असीसी की क्षमा" प्राप्त करें, संत पापा का आग्रह

संत पापा फ्राँसिस ने सभी काथलिकों को असीसी के संत फ्रांसिस को दिये गये दंडमोचन को प्राप्त करने हेतु प्रोत्साहित किया, जो "असीसी की क्षमा" से जाना जाता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 3 अगस्त 2020 ( वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस ने रविवार 2 अगस्त को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में उपस्थित सभी विश्वासियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ किया। इसके उपरांत उन्होंने सभी काथलिकों को "असीसी की क्षमा" प्राप्त करने के लिए आमंत्रित किया, जिसे 1 अगस्त की शाम से 2 अगस्त की मध्यरात्रि तक प्राप्त किया गया जा सकता है। असीसी के संत फ्रांसिस ने कुवांरी माँ मरियम की मध्यस्ता द्वारा ईश्वर से यह आध्यात्मिक उपहार प्राप्त किया।

संत पापा ने कहा, "जब विश्वासी पापस्वीकार संस्कार ग्रहण करता एवं पवित्र मिस्सा समारोह में भाग लेता है और एक पल्ली या फ्रांसिस्कन गिरजाघर का दौरा करके धर्मसार की प्रार्थना, हे पिता हमारे की प्रार्थना और संत पापा ने मनोरथ के लिए प्रार्थना करता है  तो उसे पूर्ण रुप से दंडमोचन प्राप्त होता है।

उन्होंने यह भी याद दिलाया कि इसके द्वारा मृत व्यक्ति के लिए भी दंडमोचन प्राप्त किया जा सकता है।

संत पापा ने कहा, "ईश्वर की क्षमा हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है,इसके द्वारा हमारे अंदर और हमारे बीच स्वर्ग का राज्य विराजमान होता है!"

असीसी की क्षमा की शुरुआत

"असीसी की क्षमा", 1216 से पहले की है, जब येसु मसीह, माता मरियम और देवदूत संत फ्रांसिस को दर्शन दिये थे।

यह दर्शन छोटे पोरचुंगुला प्रार्थनालय में हुआ, जिसे संत फ्रांसिस ने इटली के असीसी शहर में बनाया था।

जब येसु ने उससे पूछा कि वह आत्माओं की मुक्ति के लिए क्या करना चाहता है, तो संत फ्रांसिस ने ईश्वर से उन सभी के लिए पूर्ण दंडमोचन देने कहा, जो प्रार्थनालय में प्रवेश करते और प्रार्थना करते हैं।

बाद में इस दंडमोचन को उन सभी लोगों के लिए बढ़ाया गया जो 1 अगस्त या 2 अगस्त को एक पल्ली या फ्रांसिस्कन गिरजाघर का दौरा कर प्रार्थना करते हैं।  

03 August 2020, 14:14