खोज

Vatican News
हरमिना न्जोत्तो एकसाथ जुड़ी बच्चियों को जन्म देने वाली माँ हरमिना न्जोत्तो एकसाथ जुड़ी बच्चियों को जन्म देने वाली माँ  (ANSA)

संत पापा ने जुड़वां बच्चियों को बपतिस्मा दिया, माँ का आभार पत्र

जून की शुरुआत में रोम के बाम्बिनो येसु अस्पताल में एकसाथ जुड़ी बच्चियों का एक असाधारण सर्जरी कर अलग किया गया। कुछ दिन पहले संत पापा फ्राँसिस ने उन बच्चियों को बपतिस्मा संस्कार दिया। बच्चियों की माँ ने आभार प्रकट करते हुए संत पापा फ्राँसिस को एक पत्र लिखा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार 11 अगस्त,2020 (वाटिकन न्यूज) : हरमिना न्जोत्तो 19 जून 2018 को एकसाथ जुड़ी बच्चियों को जन्म देने वाली माँ हैं वे सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक (सीएआर)  की राजधानी बांगुई से 100 किलो मीटर दूर एक गाँव म्बाकी की रहने वाली है। बांगुई के बाल अस्पताल ने 10 सितंबर, 2018 को मां और उनकी बेटियों को रोम में स्थानांतरित कर दिया, यह देखने के लिए कि क्या उन्हें अलग किया जा सकता है। बाम्बिनो येसु अस्पताल में 5 जून 2020 को तीसरी सर्जरी जो 18 घंटे तक चला, जिसमें कुल 30 विशेषज्ञ डॉक्टर शामिल थे, एकसाथ जुड़ी बच्चियों के कपाल और मस्तिष्क को असाधारण ऑपरेशन द्वारा सफलतापूर्वक अलग किया गया।

संत पापा फ्राँसिस ने हाल ही में संत मार्था प्रार्थनालय में इन दो छोटी बच्चियों  एर्विना और प्रीफिना का एक निजी समारोह के दौरान बपतिस्मा दिया। संत पापा फ्राँसिस के प्रति आभार प्रकट करते हुए इन बच्चियों की माँ हरमिना लिखती हैं कि संत पेत्रुस महागिरजा घर में प्रवेश करते ही उसकी विशालता आँखों को चकाचौंध करने वाली थी। परंतु उनकी नजर उस आकृति पर आकर रुक गई जहाँ माता मरियम अपने ‘निर्दोष बेटे’ के मृत शरीर को अपने बाहों में लिये हुए थी। उसके मन में भी एक प्रश्न उठा वह भी अपनी ‘निर्दोष बच्चियों’ को अपनी बाहों में ली हुई है। वे बच्चियाँ सामान्यता से वंचित है?

सीएआर में पवित्र द्वार की आशा

आगे वे लिखती हैं कि अगर कल "ये (बच्चियाँ) पृथ्वी पर सबसे भाग्यशाली बच्चों का हिस्सा बन पाएंगे, दूसरे बच्चों के समान स्कूल जा पायेंगे और सामान्य जीवन जा पायेंगे" तो यह 2015 में बांगुई में खोले गए पवित्र द्वार की वजह से है, एक मार्ग जिसपर "जरूरतमंद चल सकते हैं जैसा कि मैं हूँ।" भली इच्छा रखने वाले डॉक्टरों की टीम जिन्होंने मेरी जुड़ी हुए बच्चियों को अलग करके उनहें सामान्य बना दिया।

"संत पापा जानते हैं कि दुनिया को क्या चाहिए"

हरमिना ने पत्र में येसु बम्बिनो अस्पताल की अध्यक्ष मारिएला एनोक, न्यूरोसर्जरी विभाग के प्रमुख, प्रोफ़ेसर कार्लो एफिसियो मर्रास और सभी डॉक्टरों को धन्यवाद दिया, जिनकी टीम ने उनकी लड़कियों को "चमत्कारिक रूप से अलग और पुनर्जीवित" किया है। अंत में उनहोंने लिखा,“प्रार्थना पृथ्वी के लोगों को एकजुट करती है; " इसलिए, उसने संत  पापा फ्राँसिस के लिए माता मरियम से प्रार्थना करने का वादा किया, उन्होंने कहा कि वह जो मच्छर के काटने से बचने की हिम्मत करता है और 2015 में विद्रोह के दौरान सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक की यात्रा करना जानता है, वह जानता है माता मरियम से दुनिया के लिए क्या मांगना चाहिए।

11 August 2020, 13:46