खोज

Vatican News
मरिया मेजर महागिरजाघर में प्रार्थना करते संत पापा फ्राँसिस मरिया मेजर महागिरजाघर में प्रार्थना करते संत पापा फ्राँसिस  (Vatican Media)

महामारी से निपटने हेतु संत पापा की माता मरियम से प्रार्थना

कलीसिया जब धन्य कुँवारी मरियम के स्वर्गोदग्रहण की तैयारी कर रही है संत पापा फ्राँसिस ने उनकी मध्यस्थता द्वारा प्रार्थना की है कि मानवता कोरोना वायरस महामारी से उबर सके।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार, 12 अगस्त 2020 (वीएन)- बुधवारीय आमदर्शन समारोह के दौरान धर्मशिक्षा देने के उपरांत संत पापा ने धन्य कुँवारी मरियम के स्वर्गोदग्रहण महापर्व की याद दिलायी, जिसको 15 अगस्त को मनाया जाता है।

पोलैंड के विश्वासियों का अभिवादन करते हुए संत पापा ने "विस्तुला के चमत्कार" में धन्य कुँवारी मरियम की भूमिका की याद की जो 100 सालों पहले घटी थी।   

अदृश्य शत्रु से निपटना

15 अगस्त 1920 को पोलैंड के सैनिकों ने वरसाव के युद्ध में सोवित के सैनिकों पर एक निर्णायक जीत हासित की, जिसका श्रेय माता मरियम की मध्यस्थता को दिया गया। इस दिन को "पोलिश सशस्त्र सेना दिवस" के रूप में भी मनाया जाता है।

संत पापा ने कहा, "ईश्वर की माता आज कोरोना वायरस पर विजय पाने में मानवता की सहायता करें और आपको, आपके परिवार एवं पूरे पोलैंड के लोगों पर अपनी उदार आशीष प्रदान करे।"

संत पापा ने चेस्तोकोवा की काली माता के तीर्थस्थल की यात्रा करनेवाले सभी काथलिकों के प्रति अपना आध्यात्मिक समर्थन व्यक्त किया। उन्होंने कहा, "यह तीर्थयात्रा जिसको महामारी के कारण सावधानी के साथ आयोजित किया गया है, सभी के लिए चिंतन, प्रार्थना और विश्वास एवं प्रेम में भाईचारा का समय हो।"  

तीर्थयात्रा के रास्ते पर मार्गदर्शक

अंग्रेजी भाषी विश्वासियों को सम्बोधित करते हुए संत पापा ने उन सभी लोगों को प्रोत्साहन दिया जो माता मरियम के स्वर्गोदग्रहण का पर्व मनाने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "वे हमारी तीर्थयात्रा को ख्रीस्त की प्रतीज्ञा की पूर्णता की ओर ले चलें।"

जर्मन भाषी विश्वासियों से संत पापा ने कहा कि आनेवाला पर्व, उस सर्वोच्च सम्मान को दर्शाता है जिसको ईश्वर ने मानवता के लिए प्रदान किया है। उन्होंने कहा, "हम उनके विनम्र सेवक बनने की कृपा के लिए प्रार्थना करें जिससे के वे हमारे द्वारा भी महान कार्य कर सकें।"

एकात्मता की आदर्श

स्वर्गोदग्रहण की माता मरियम, फ्राँस की संरक्षिका मानी जाती हैं। संत पापा ने प्रार्थना की कि माता मरियम फ्राँस के लोगों के विश्वास एवं आशा को सुदृढ़ करे। "वे हमें स्वार्थ, उदासीनता और व्यक्तिवाद से बचाये रखें ताकि एकात्मता पर स्थापित अधिक भातृत्वपूर्ण समाज का निर्माण किया जा सके।

12 August 2020, 15:34