खोज

Vatican News
लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद द्वारा बुजूर्गों के समर्थन में अभियान जारी लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद द्वारा बुजूर्गों के समर्थन में अभियान जारी 

वाटिकन द्वारा बुजूर्गों के समर्थन में अभियान जारी

लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन को प्रोत्साहन देने के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद ने कोविड-19 तालाबंदी के कारण एकाकी महसूस कर रहे बुजूर्गों के प्रति युवाओं के लिए संत पापा फ्राँसिस के आह्वान का प्रत्युत्तर दिया है।

उषा मनोरमा तिर्की-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 28 जुलाई 20 (वीएन)- रविवार को संत पापा फ्राँसिस ने विश्वभर के युवाओं को निमंत्रण दिया कि वे बुजूर्गों के प्रति "कोमलता का भाव दिखायें" जब वे कोविड-19 स्वास्थ्य दिशानिर्देश का पालन करते हुए अकेले रहने के लिए मजबूर हैं।

लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परमधर्मपीठीय परिषद ने तत्काल इस निमंत्रण का प्रत्युत्तर देते हुए एक अभियान जारी किया जिसका शीर्षक है- "बुजूर्ग तुम्हारे दादा-दादी हैं।"  

वयोवृद्धों के प्रति दयालुता

सोमवार को जारी एक विज्ञप्ति में परिषद ने युवाओं को निमंत्रण दिया है कि "वे एकाकी महसूस करनेवाले बुजूर्गों के लिए कुछ ऐसा काम करें जिससे उनके प्रति दयालुता एवं स्नेह प्रकट हो।"

विज्ञप्ति में कहा गया है कि महामारी ने बुजूर्गों को अधिक कठोरता से मारा है और इसने पीढ़ियों के बीच पहले से कमजोर संबंध को तोड़ दिया है, "हालांकि, सामाजिक दूरी के नियमों का सम्मान करने का मतलब अकेलेपन और परित्याग की नियति को स्वीकार करना नहीं है।"

परिषद ने उन लोगों के उदाहरणों का स्मरण किया है जिन्होंने फोन और इंटरनेट के माध्यम से बुजूर्गों के साथ सम्पर्क बनाये रखा, यहाँ तक कि कुछ लोगों ने वृद्धाश्रमों में संगीत भी प्रस्तुत किया।  

विज्ञप्ति में कहा गया है कि "आप युवाओं ने कई लोगों के द्वारा महसूस किये जा रहे एकाकीपन को कम करने में मदद दी, जो महामारी के कारण घर के अंदर रहने या घर पर ही इलाज कराने के लिए बाध्य हैं।"

एक आलिंगन भेजना

बुजूर्गों की सुरक्षा हेतु स्वास्थ्य संबंधी नियम अब भी कई जगहों पर लगे हुए हैं। परिषद ने युवा काथलिकों से अपील की है कि वे अपने पल्लियों या पड़ोस में अकेले रहनेवाले बुजूर्गों को एक आलिंगन भेजें। ऐसा वे फोन, वीडियो कॉल या एक मेसेज भेजकर कर सकते हैं।  

अपील की गई है कि जहाँ संभव है या जब स्वास्थ्य आपातकाल अनुमति दे, युवा बुजूर्गों से मुलाकात करने जाएँ और उनका आलिंगन करें।

सामाजिक संचार माध्यमों द्वारा साझा करें

युवाओं को प्रोत्साहन दिया गया है कि वे लोगों तक पहुँचने के प्रयासों को, #sendyourhug के साथ संचार माध्यमों द्वारा साझा करें।

उत्तम पोस्ट्स को लोकधर्मी, परिवार एवं जीवन के लिए गठित परिषद के सोशल मीडिया आकाऊंट पर पोस्ट किया जाएगा।

28 July 2020, 15:11