खोज

Vatican News
जेस्विट पुरोहितों द्वारा शरणार्थी बच्चों की मदद जेस्विट पुरोहितों द्वारा शरणार्थी बच्चों की मदद 

जीवन की सार्थकता किस चीज में?

जीवन में हर व्यक्ति एक चीज की खोज आवश्य करता है, चाहे वह किसी भी रूप में उसे पाने की कोशिश क्यों न करता हो। कई लोग उसे धन सम्पति, कैरियर, सुख-सुविधा के साधनों, आदतों और परोपकार के कार्यों के माध्यम से पाने की कोशिश करते हैं। वह महत्वपूर्ण चीज है जीवन की सार्थकता। संत पापा फ्राँसिस ने 27 जून के ट्वीट संदेश में जीवन की सार्थकता बतलायी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 27 जून 2020 (रेई) – जीवन में हर व्यक्ति एक चीज की खोज आवश्य करता है, चाहे वह किसी भी रूप में उसे पाने की कोशिश क्यों न करता हो। कई लोग उसे धन सम्पति, कैरियर, सुख-सुविधा के साधनों, आदतों और परोपकार के कार्यों के माध्यम से पाने की कोशिश करते हैं। वह महत्वपूर्ण चीज है जीवन की सार्थकता। येसु ने दिखलाया है कि जीवन की सार्थकता लोगों से प्रेम करने और उन्हें सेवा देने में है।  

संत पापा फ्राँसिस ने 27 जून के ट्वीट संदेश में लिखा, "यदि आप अपने जीवन में सार्थकता की खोज करते हैं लेकिन नहीं पाते, तब आप "प्रेम की नकल" द्वारा उसे पाने की कोशिश करते हैं, जैसे धन, करियर, खुशी, या लत आदि। परन्तु येसु को अपने आप पर नजर डालने दें, और आप पाएंगे कि उन्होंने आपको हमेशा प्यार किया है।"

ज्ञात हो कि संत पापा फ्राँसिस 29 जून को प्रेरित संत पेत्रुस एवं संत पौलुस के महापर्व के उपलक्ष्य में प्रातः 9.30 बजे संत पेत्रुस महागिरजाघर में समारोही ख्रीस्तयाग अर्पित करेंगे। उन्होंने सब कुछ छोड़कर येसु का अनुसरण करने में ही जीवन की सार्थकता पायी थी।

27 June 2020, 15:31