खोज

Vatican News
संत मर्था में ख्रीस्तयाग अर्पित करते हुए संत पापा फ्राँसिस संत मर्था में ख्रीस्तयाग अर्पित करते हुए संत पापा फ्राँसिस   (ANSA)

एकाकी और प्रतिबंधों के बीच पुनर्जीवित ख्रीस्त की याद

आज के ट्वीट संदेश में संत पापा फ्राँसिस ने महामारी की पीड़ा के बीच पुनर्जीवित ख्रीस्त की उपस्थिति की याद दिलायी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 7 मई 2020 (रेई)- आज के ट्वीट संदेश में संत पापा फ्राँसिस ने महामारी की पीड़ा के बीच पुनर्जीवित ख्रीस्त की उपस्थिति की याद दिलायी।

उन्होंने कहा, "एकाकी के बीच जब हम स्नेह और मुलाकातों की कमी महसूस कर रहे हैं एवं कई चीजों को खोने का एहसास कर रहे हैं, हम पुनः एक बार, उस घोषणा को सुने जो हमें बचाता है, ख्रीस्त जी उठे हैं और हमारी बगल में हैं।"

दूसरे ट्वीट संदेश में संत पापा ने अपने इतिहास की जानकारी रखने हेतु प्रोत्साहन देते हुए कहा, "ख्रीस्तीय होने का अर्थ है ईश्वर द्वारा मुक्त रूप से चुनी गई प्रजा का सदस्य होना एवं उन लोगों की याद रखना जो मुक्ति की यात्रा में हमसे पहले पार हो चुके हैं। आइये, हम ईश्वर से ईश प्रजा के सदस्य होने की चेतना के लिए प्रार्थना करें, जिसमें पूर्ण निष्ठा होती है।"

07 May 2020, 16:39