खोज

Vatican News
शेशन की माता मरियम के तीर्थालय में प्रार्थना करते हुए चीनी विश्वासीगण शेशन की माता मरियम के तीर्थालय में प्रार्थना करते हुए चीनी विश्वासीगण 

संत पापा ने चीनी कलीसिया के लिए प्रार्थना की अपील की

संत पापा फ्राँसिस ने चीन के काथलिक विश्वासियों के लिए प्रार्थना की। वे शंघाई में चीन की संरक्षिका शेशन की माता मरियम का त्योहार मना रहे हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 25 मई 2020 (वाटिकन न्यूज) : कलीसिया रविवार 24 मई को चीन की कलीसिया के लिए विशेष प्रार्थना दिवस को चिन्हित करती है। इस दिन संत पापा फ्राँसिस ने काथलिक कलीसिया की ओर से चीन की काथलिक कलीसिया को प्रार्थनामय सामीप्य का आश्वासन दिया।

रविवार को को स्वर्ग की रानी प्रार्थना के उपरांत संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "चीन के प्यारे काथलिक भाइयों और बहनों, मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूँ कि विश्वव्यापी काथलिक कलीसिया, जिसके आप एक अभिन्न अंग हैं, अपनी आशाओं को साझा करती है और आपकी कठिनाईयों में आपको सहारा देती है। वह पवित्र आत्मा की एक नई कृपाओं के लिए प्रार्थना करती हुई आपका साथ देती है, ताकि जो लोग विश्वास करते हैं उनके उद्धार के लिए ईश्वर की शक्ति के रूप में सुसमाचार की रोशनी और सुंदरता आप में चमक सके।”

चीन के काथलिक रविवार को चीन की संरक्षिका और ख्रीस्तियों की सहायिका माता मरियम का पर्व मनाते हैं। शंघाई के राष्ट्रीय तीर्थालय में कुंवारी माता को ‘शेशन की माता मरियम’ के नाम से सम्मानित किया गया है।

चीनी कलीसिया के लिए प्रार्थना का दिन

2007 में, संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने "चीन के काथलिकों को पत्र" लिखा और चीन में कलीसिया के लिए प्रार्थना का दिन घोषित किया, जो हर साल 24 मई को मनाया जाता है।

इस अवसर पर, संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने माता मरियम को समर्पित एक प्रार्थना लिखी, जिसमें उन्होंने माता मरियम को ईश्वर के लोगों को "सच्चाई और प्रेम के मार्ग" पर आगे बढ़ने हेतु मार्गदर्शन करने को कहा, ताकि सभी "हर परिस्थिति में" सामंजस्यपूर्ण सह-अस्तित्व का जीवन बिता सकें।"

चीनी काथलिकों की देखभाल

संत पापा फ्राँसिस ने परमाध्यक्ष के रुप में अपना कार्य शुरु करने के बाद से चीन की काथलिक कलीसिया की विशेष देखभाल का प्रदर्शन किया है। प्रत्येक वर्ष, 24 मई प्रार्थना के दिन, संत पापा सभी चीनी काथलिकों के प्रति अपनी निकटता और स्नेह व्यक्त करने में कभी असफल नहीं हुए।

परमधर्मपीठ और चीन गणराज्य के बीच राजनयिक संबंधों में एक महत्वपूर्ण कदम 22 सितंबर 2018 को प्रावधिक समझौते पर हस्ताक्षर हुआ।

वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पिएत्रो पारोलिन ने इस समझौते को "चीनी काथलिक समुदाय की भलाई के लिए और पूरे समाज के सामंजस्य के लिए अधिक से अधिक सहयोग के एक नए चरण के साथ एक लम्बे मार्ग पर चलने का  एक शुरुआती बिंदु के रूप में वर्णित किया।

25 May 2020, 17:47