खोज

Vatican News
पुनर्जीवित मसीह पुनर्जीवित मसीह 

ईश्वर की निष्ठा को पहचानें, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने ईश्वर की निष्ठा का प्रत्युत्तर देने और बुजुर्गों के लिए प्रार्थना करने हेतु प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार,15 अप्रैल 2020 (रेई): संत पापा फ्राँसिस बुधवार 15 अप्रैल को तीन ट्वीट कर ईश्वर की निष्ठा को पहचानने, शांति का बाहक बनने और बुजूर्गों के लिए प्रार्थना करने हेतु प्रेरित किया।

1 ट्वीट

संत पापा ने कोरोना वायरस के कारण अलग-थलग पड़े बुजूर्गों के लिए प्रार्थना की अपील करते हुए लिखा,"आइए, हम बुजूर्गों के लिए प्रार्थना करें, विशेषकर जो अलग-थलग हैं घरों में या नर्सिंग होम में आराम कर रहे हैं और अकेले मरने से डरते हैं। वे हमारी जड़ें हैं। उन्होंने हमें विश्वास, परंपरा और अपनेपन की भावना दी। आइए, हम प्रार्थना करें कि वे प्रभु की उपस्थिति महसूस कर सकें।"

2 ट्वीट

संत पापा ने दूसरे ट्वीट में हम मनुष्यों के प्रति ईश्वर की निष्ठा पर प्रकाश डालते हुए लिखा, "अपने लोगों के प्रति  ईश्वर का विश्वास एक धैर्यपूर्ण निष्ठा है। प्रभु सुनते हैं, मार्ग दर्शन करते है, धीरे से समझाते हैं और दिल को खुश कर देते हैं जैसा कि उसने एम्माउस के उन दो चेलों के साथ किया था जो यरूशलेम से बहुत दूर गए थे। प्रभु ने उनके दिल को उदीप्त कर दिया और वे वापस येरुसालेम लौट आये।"  

3 ट्वीट

संत पापा फ्राँसिस ने बुधवारीय आमदर्शन समारोह में "धन्य वचन" के तहत शांति और मेल-मिलाप करने वालों पर प्रकाश डालते हुए ट्वीट संदेश में लिखा, "ईश्वर की संतान उन्हें कहा जाता है जिन्होंने शांति की कला सीखी है और इसका अपने जीवन में प्रयोग करते हैं। अपने जीवन में आहूति दिये बिना कोई मेल-मिलाप नहीं किया जा सकता। शांति हमेशा और हर स्थिति में स्थापित की जानी चाहिए।"  

15 April 2020, 16:22