खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस संत पापा फ्राँसिस  (AFP or licensors)

जीवन के कठिन समय में अपने हृदय में येसु की आवाज सुनें

जीवन में जब कठिनाइयाँ आती हैं तो कई लोग निराश हो जाते हैं, पर कुछ लोग उन्हीं कठिनाइयों में अपने आपको ईश्वर के अधिक निकट पाते हैं। संत पापा फ्राँसिस ने बतलाया है कि हम किस तरह उन परिस्थितियों में ईश्वर की कृपा देख सकते हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 4 फरवरी 2020 (रेई)˸ जीवन में जब कठिनाइयाँ आती हैं तो कई लोग निराश हो जाते हैं, पर कुछ लोग उन्हीं कठिनाइयों में अपने आपको ईश्वर के अधिक निकट पाते हैं। संत पापा फ्राँसिस ने बतलाया है कि हम किस तरह उन परिस्थितियों में ईश्वर की कृपा देख सकते हैं।

उन्होंने 4 फरवरी को एक ट्वीट संदेश प्रेषित कर कहा, "भाइयो एवं बहनो, ऐसे क्षण जब हम ईश्वर से दूर चले जाते हैं, यह अच्छा है कि हम अपने हृदय में उनकी आवाज सुनें, मेरा बेटा, मेरी बेटी, तुम क्या कर रहे हो? अपने आपको मत मार डालो। मैं तुम्हारे लिए मर चुका हूँ।"

संत पापा फ्राँसिस ने 4 फरवरी के अपने दूसरे ट्वीट संदेश में, मानव बंधुत्व के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किये जाने के प्रथम वर्षगाँठ पर हिंसा का बहिष्कार करने एवं शांति, जीवन एवं धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा दिए जाने का प्रोत्साहन दिया।

शांति, जीवन एवं धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा

उन्होंने संदेश में लिखा, "मानव बंधुत्व पर दस्तावेज, जिसपर एक साल पहले हस्ताक्षर किया गया था, इसने धर्मों एवं भली इच्छा रखने वाले लोगों के बीच संवाद में एक नया पृष्ठ लिखा है। भाइयों एवं बहनों के रूप में, हम हिंसा को "न" कहें और एक साथ शांति, जीवन एवं धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा दें।"

04 February 2020, 17:58