खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (AFP or licensors)

मानवता का पुनर्जन्म एक नारी से हुआ

संत पापा फ्राँसिस ने 1 जनवरी को चार संदेश भेजे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 2 जनवरी 20 (रेई)˸ संत पापा ने पहले संदेश में लिखा, "हम साल की शुरूआत हमारी माता के चिन्ह से करें जिन्होंने ईश्वर की मानवता को जोड़ा। मानवता का पुनर्जन्म एक नारी से हुआ। यदि हम अपने समय में इंसानियत लाना चाहते हैं तो हमें इसे नारी से शुरू करना होगा।"

दूसरे संदेश में संत पापा ने कहा, "एक नारी के गर्भ में ईश्वर और मानव एक साथ आये ताकि फिर कभी एक-दूसरे से अलग न हों। ईश्वर में हमेशा के लिए हमारी मानवता रह जायेगी और मरियम सदा के लिए ईश्वर की माता बनी रहेगी।"

तीसरे संदेश में संत पापा ने कहा, "आज हम ईश्वर की माता को पुकारते हैं जो हमें विश्वासी लोगों के रूप में एक साथ एकत्रित करती हैं। मुक्ति की नारी, हम इस वर्ष को तुझे समर्पित करते हैं आप इसे अपने हृदय में रखें।"   

चौथे संदेश में संत पापा ने कहा, "माता मरियम, शांति के राजकुमार की माँ और पृथ्वी के सभी लोगों की माँ, मेल-मिलाप की यात्रा के हर कदम में हमें अपना साथ और सहारा प्रदान कर।"

02 January 2020, 16:57