खोज

Vatican News
पवित्र संस्कार की आराधना पवित्र संस्कार की आराधना  (AFP or licensors)

आराधना का अर्थ है, प्रभु को केंद्र में रखना, संत पापा

संत पापा ने ट्वीट प्रेषित कर आराधना के विभिन्न आयामों को प्रस्तुत करते हुए सभी विश्वासियों को प्रभु का आराधना करने हेतु प्रेरित किया।

वाटिकन सिटी, बुधवार 8 जनवरी 2020 (रेई) : विश्वासियों की सबसे उत्तम प्रार्थना ईश्वर की आराधना करना है। संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार 8 जनवरी को दो ट्वीट प्रेषित सभी ख्रीस्तियों से प्रभु को अपने जीवन के केंद्र में रखने हेतु प्रेरित किया।

पहले ट्वीट में संत पापा ने लिखा, “आराधना में सबसे बड़े बंधन याने खुद के बंधन से बाहर निकलने को शामिल करना है। आराधना का अर्थ है, प्रभु को केंद्र में रखना, स्वयं को नहीं।”

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, “आराधना का अर्थ है, हमारे जीवन को प्रभु के सामने लाना और उन्हें हमारे जीवन में प्रवेश करने देना। इसका अर्थ है कि उसकी सांत्वना को धरती पर आने देना और अपने आप को उसके कोमल प्रेम से सराबोर होने देना।”

08 January 2020, 15:15