खोज

Vatican News
यर्दन नदी की ओर जाते हुए ख्रीस्तीय यर्दन नदी की ओर जाते हुए ख्रीस्तीय 

ख्रीस्तीय जीवन ईश्वर के साथ एक प्रेम कहानी है, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीट प्रेषित कर सभी ख्रीस्तियों को प्रभु के बपतिस्मा के पर्व पर, अपने बपतिस्मा की याद दिलाई। उन्होंने ईश्वर और पड़ोसियों से जुड़े रहने हेतु प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 13 जनवरी 2020 (रेई) : ख्रीस्तीय जीवन दो प्रकार के संबंधों पर टिका है- ईश्वर एवं दूसरों के साथ संबंध। ये दोनों ही संबंध एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। हम ईश्वर के प्यारे बच्चे हैं। आराधना द्वारा हम ईश्वर को जानते और उनकी उपस्थिति का अनुभव हम दूसरों में करते हैं। संत पापा ने ट्वीट प्रेषित कर सभी ख्रीस्तियों तो अपने जीवन को अर्थपूर्ण तरीके से जीने के लिए प्रेरित किया।

संत पापा ने संदेश में लिखा, “ख्रीस्तीय जीवन में, ईश्वर का ज्ञान पर्याप्त नहीं है: जब तक हम खुद से बाहर नहीं निकलते और दूसरों से नहीं मिलते हैं, जब तक हम आराधना नहीं करते, तबतक हम ईश्वर को नहीं जान सकते। ख्रीस्तीय जीवन ईश्वर के साथ एक प्रेम कहानी है।”

12 जनवरी का ट्वीट

रविवार 12 जनवरी को काथलिक कलीसिया ने येसु के बपतिस्मा का समारोह मनाया। इस दिन संत पापा ने ट्वीट में लिखा, “प्रभु के बपतिस्मा के पर्व पर, हम अपने बपतिस्मा को पुनः याद करते हैं। जैसे येसु पिता के प्रिय पुत्र हैं, वैसे ही हम भी पानी और पवित्र आत्मा द्वारा पुनर्जन्म लिया है और हम जानते हैं कि हम कई अन्य भाइयों और बहनों के बीच ईश्वर के प्यारे बच्चे हैं।

13 January 2020, 15:02