खोज

Vatican News
शिशु को बपतिस्मा देते हुए संत पापा फ्राँसिस शिशु को बपतिस्मा देते हुए संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

संत पापा ने सिस्टीन प्रार्थनालय में बच्चों को दिया बपतिस्मा

प्रभु के बपतिस्मा के पर्व पर, संत पापा फ्राँसिस ने सिस्टीन प्रार्थनालय में पवित्र मिस्सा समारोह का अनुष्ठान किया और 32 बच्चों को बपतिस्मा संस्कार दिया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 13 जनवरी 2020 (वाटिकन न्यूज) : लंबे समय से चली आ रही परंपरा अनुसार, संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को सिस्टीन प्रार्थनालय में प्रभु के बपतिस्मा पर्व का पवित्र मिस्सा समारोह का अनुष्ठान किया। इस दिन कलीसिया येसु के चचेरे भाई, संत जॉन बपतिस्ता द्वारा यर्दन नदी में येसु को दिये गये बपतिस्मा की याद करती है।

समारोह के दौरान, संत पापा ने वाटिकन के कर्मचारियों और राजनयिकों के परिवारों में पिछले वर्ष में पैदा हुए तीस से अधिक बच्चों को बपतिस्मा संस्कार दिया।

न्याय का एक कार्य

बपतिस्मा समारोह से ठीक पहले, अपने प्रवचन में, संत पापा फ्राँसिस ने जॉन द्वारा पूछे जाने पर येसु के शब्दों को याद किया कि प्रभु बपतिस्मा लेने के लिए उनके पास क्यों आ रहे हैं जबकि उसे खुद येसु से बपतिस्मा लेने की जरुरत है। येसु कहते हैं, “अब ऐसा होने दो, इस प्रकार यह हमारे न्याय को पूरा करने के लिए उपयुक्त है।"

संत पापा ने कहा, "बच्चे को बपतिस्मा देना एक न्याय का कार्य है, क्योंकि बपतिस्मा में हम उसे खजाने को देते हैं, हम उनके लिए पवित्र आत्मा की इच्छा करते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को बपतिस्मा देना महत्वपूर्ण है, "ताकि वे पवित्र आत्मा की शक्ति में बड़े हों।"

संत पापा ने बच्चों के माता पिता से "यह ध्यान रखने के लिए आग्रह किया कि बच्चे पवित्र आत्मा की शक्ति और प्रकाश के साथ बड़े हों। बच्चों को धर्मशिक्षा दी जाय। उनहोंने कहा कि बच्चे अपने घरों में माता पिता और बड़ों के उदाहरण से सीखते हैं। 

संत पापा ने कहा, "यही संदेश आज मैं आपको देना चाहता हूँ"।

एक सुंदर उपदेश

संत पापा फ्राँसिस ने युवा परिवारों से कहा कि अगर उनके बच्चे समारोह के दौरान उपद्रव करते हैं, तो वे चिंता न करें। "बच्चे सिस्टीन प्रार्थनालय में पहली बार आये हैं। नये परिवेश में अगर वे रोना शुरु कर देते हैं तो उन्हें चुप कराने की कोशिश करें, अगर बच्चे चुप नहीं होते और रोना जारी रखते हैं तो भी चिंता न करें। उन्होंने कहा, "बच्चे गायक मंडली के समान हैं अगर एक रोना शुरु करता है तो दूसरे भी इसमें शामिल हो जाते हैं। "आप परेशान न होवे!" "जब बच्चा गिरजाघर में रोता है, तो यह एक सुंदर घर है।"

अंत में संत पापा ने कहा, "आप मत भूलें कि बच्चे पवित्र आत्मा को धारण करते हैं।"

13 January 2020, 15:08