खोज

Vatican News
चरनी का एक दृश्य चरनी का एक दृश्य 

येसु के आगमन की तैयारी करें

संत पापा फ्राँसिस ने आगमन काल में प्रवेश करते हुए सभी विश्वासियों का आह्वान किया कि वे प्रभु के स्वागत हेतु अपने आपको तैयार करें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, दिसम्बर 2019 (रेई)˸ संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीट संदेश में लिखा, "आज के सुसमाचार में येसु हमें निमंत्रण देते हैं कि हम उनके आगमन के लिए तैयार रहें। ‘इसलिए जागते रहो, क्योंकि तुम नहीं जानते कि तुम्हारे प्रभु किस दिन आयेंगे।’ (मती. 24˸ 42) जागते रहने का अर्थ है दान करने और सेवा देने के लिए तत्पर रहना, पड़ोसियों की कठिनाइयों में उनका ख्याल रखना।"

दूसरे ट्वीट संदेश में संत पापा ने आगमन काल का अर्थ बतलाते हुए कहा, "आगमन शब्द का अर्थ है आना। प्रभु आ रहे हैं। यही हमारी आशा का मूल कारण है, ईश्वर की सहानुभूति की निश्चितता जो दुनिया की कठिनाईयों के बीच आते हैं। शब्दों की नहीं बल्कि हमारे बीच उनकी उपस्थिति की सहानुभूति।"

घरों में चरनी बनायें

रविवार को प्रेषित तीसरे ट्वीट संदेश में संत पापा ने परिवारों में चरनी बनाने का प्रोत्साहन दिया। परिवारों में चरनी बनाने की प्रथा पर संत पापा ने एक पत्र प्रकाशित कर विश्वासियों का आह्वान किया है कि वे अपनी दिल रूपी चरनी को तैयार करने के साथ-साथ परिवार में भी चरनी तैयार करें।  

उन्होंने कहा, "इस पत्र के द्वारा मैं ख्रीस्त जयन्ती के लिए चरनी बनाने की सुन्दर पारिवारिक प्रथा को प्रोत्साहन देना चाहता हूँ साथ ही, कार्यस्थल, स्कूल, अस्पताल, कैदखानों एवं शहर के चौराहों पर भी चरनी बनाने की परम्परा को बढ़ावा देता हूँ।"  

02 December 2019, 16:42