खोज

Vatican News
नागासाकी के बेसबॉल स्टेडियम में ख्रीस्तयाग समारोह - 24.11.2019 नागासाकी के बेसबॉल स्टेडियम में ख्रीस्तयाग समारोह - 24.11.2019  (AFP or licensors)

नागासाकी के बेसबॉल स्टेडियम में ख्रीस्तयाग के लिये हज़ारों एकत्र

नागासाकी के बेसबॉल स्टेडियम में रविवार को सन्त पापा फ्राँसिस ने काथलिक विश्वासियों के लिये ख्रीस्तयाग अर्पित किया जिसमें 35,000 से अधिक श्रद्धालुओं ने भाग लिया।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

नागासाकी, रविवार, 24 नवम्बर 2019 (रेई,वाटिकन रेडियो): नागासाकी के बेसबॉल स्टेडियम में रविवार को सन्त पापा फ्राँसिस ने काथलिक विश्वासियों के लिये ख्रीस्तयाग अर्पित किया जिसमें 35,000 से अधिक श्रद्धालुओं ने भाग लिया।

नागासाकी के स्टेडियम में स्वागत

नागासाकी के महाधर्माध्यक्षीय निवास से सन्त पापा फ्राँसिस अपनी कार से, सीढ़ीदार चावल के खेतों तथा शरद ऋतु के आगमन से हरे, पीले एवं लाल रंगों में बदलती पहाड़ियों का वैभवशाली  नज़ारा देखते हुए नागासाकी के बेसबॉल स्टेडियम पहुँचे। छत्रियों एवं प्लासटिक की बरसातियाँ पहने रिम-झिम गिरती वर्षा का सामना करते हुए ख्रीस्तयाग समारोह से कई घण्टे पहले ही लोग स्टेडियम के बाहर लम्बी-लम्बी क़तारों में खड़े होकर स्टेडियम के द्वारों के खुलने का इन्तज़ार कर रहे थे। अपनी पारदर्शी पापामोबिल गाड़ी से सन्त पापा ने ख्रीस्तयाग के लिये एकत्र भक्तों का अभिवादन किया जिन्होंने करतल ध्वनि एवं जयनारों से अपने बीच उनका स्वागत किया।

मरियम प्रतिमा

नागासाकी के बेसबॉन स्टेडियम में ख्रीस्तयाग के लिये निर्मित वेदी पर मां मरियम की उस प्रतिमा को भी रखा गया जो सन् 1945 ई. के परमाणु हमले में नष्ट काथलिक महागिरजाघर में प्रतिष्ठित थी। हमले में महागिरजाघर पूर्णतः नष्ट हो गया था किन्तु पवित्र कुँवारी मरियम की प्रतिमा के अवशेष अभी भी सुरक्षित हैं। सन् 1962 में परमाणु बम हमले के स्थल पर ही पुनः काथलिक महागिरजाघर का निर्माण कराया गया था जिसे आज ऊराकामी काथलिक महागिरजाघर के नाम से जाना जाता है। ख्रीस्तयाग प्रवचन में सन्त पापा ने परमाणु हमले के शिकार बने तथा 16 वीं एवं 17 वीं शताब्दी में ख्रीस्तीय विश्वास के ख़ातिर उत्पीड़न का शिकार बने तथा मार डाले गये लोगों को याद किया।

रविवार को दूसरे पहर सन्त पापा फ्रांसिस नागासाकी से लगभग सवा घण्टे की विमान यात्रा तय कर जापान के हिरोशिमा शहर पहुँचे जो, नागासाकी के साथ ही सन् 1945 में परमाणु हमले का शिकार बना था।     

24 November 2019, 11:47