खोज

Vatican News
धर्माध्यक्षों और बच्चों द्वारा संत पापा का स्वागत धर्माध्यक्षों और बच्चों द्वारा संत पापा का स्वागत 

शांति और समझ को बढ़ावा देने हेतु संत पापा की थाईलैंड यात्रा

संत पापा फ्राँसिस की 32 वीं विदेश यात्रा का पहला चरण थाईलैंड है। संत पापा जॉन पॉल द्वितीय द्वारा 1984 में देश का दौरा करने के बाद वे दूसरे परमाध्यक्ष हैं जो 20 से 23 नवम्बर तक थाईलैंड का दौरा करेंगे।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 20 नवम्बर 2019 (वाटिकन न्यूज) :  थाईलैंड में कुल पंचानबे प्रतिशत जनसंख्या बौद्ध है,फिर भी थाईलैंड परस्पर संवाद और विविधता के सम्मान का देश है। 1511 में पुर्तगालियों ने इस देश में सुसमाचार का पहला बीज बोया। तभी से थाईलैंड में ख्रीस्तियों ने प्रार्थना, पूजा-अर्चना की स्वतंत्रता का आनंद लिया है।

संत पापा की यात्रा के सामान्य समन्वयक और थाईलैंड धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के उप-महासचिव धर्माध्यक्ष एंड्रयू विसानू थान्या-आन ने वाटिकन रेडियो से संत पापा के स्वागत की तैयारी कर रहे लोगों की अपेक्षाओं के बारे में बात की।

धर्माध्यक्ष थान्या-आन ने कहा कि यह देखकर उन्हें बहुत खुशी हुई है कि इतने सारे थाई बौद्ध अपने देश में संत पापा फ्राँसिस का स्वागत करने के लिए उत्साहित हैं।

उनका कहना है कि यात्रा के क्रम में, मीडिया इस के बारे में बता कर रही है कि संत पापा ने अपनी यात्रा के लिए थाईलैंड का चुनाव किया जहाँ ख्रीस्तियों की संख्या बहुत कम है।  

“संत पापा शांति के तीर्थयात्री के रूप में यात्रा कर रहे हैं। इसलिए हम इस बात को रेखांकित करना पसंद करते हैं कि वे शांति और समझ के लिए पुलों का निर्माण करने आ रहे हैं। इसलिए लोग उनके लिए शांति का माहौल बनाने, अन्य लोगों के लिए सम्मान और पुलों के निर्माण के लिए आगे आ रहे हैं।

धर्माध्यक्ष थान्या-आन ने कहा कि यद्यपि यह एक बौद्ध देश है, थाईलैंड स्वतंत्रता की भूमि है जहां लोग एक-दूसरे का सम्मान करते हैं और एक साथ रहते हैं, जिसमें राष्ट्र के दक्षिण में मुस्लिम भी रहते हैं।

उनहोंने कहा, "हमारे पास एक शहर है - एक गाँव - जिसमें चार धर्मों के लोग सदियों से एक साथ शांति से रह रहे हैं, वे एक मॉडल प्रदान करते हैं।"

अंत में, धर्माध्यक्ष थान्या-आन ने कहा कि सभी थाई, जिन्होंने टीवी पर संत पापा को देखा है या जिन्होंने उनकी तस्वीरें देखी हैं, युवा लोगों के साथ उनके संवाद तथा गरीब और कमजोर लोगों के लिए उनके प्यार को देखकर बहुत प्रभावित हुए हैं।  वे संत पापा के प्रेरितिक पत्र लौदातो सी की भी सराहना करते हैं जिसमें संत पापा ने आमघर की देखभाल के बारे में लिखा है "और इसलिए हर कोई खुश है कि वे आ रहे हैं!"

20 November 2019, 16:30