खोज

Vatican News
धर्मसभा के कुछ प्रतिभागियों द्वारा दोमेतिल्ला काटेकुम्ब में मिस्सा समारोह धर्मसभा के कुछ प्रतिभागियों द्वारा दोमेतिल्ला काटेकुम्ब में मिस्सा समारोह 

धर्मसभा के धर्माध्यक्षों द्वारा "काटेकुम्ब समझौता" का नवीनीकरण

1965 के महासभा के कुछ धर्माध्यक्षों के नक्शेकदम पर चलते हुए, अमाज़ोन धर्मसभा में भाग लेने वालों का एक समूह दोमेतिल्ला काटेकुम्ब में गरीबों के लिए अधिमान्य विकल्प की पुष्टि की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 21 अक्टूबर 2019 ( वाटिकन न्यूज) :  16 नवंबर 1965 को, दूसरी वाटिकन महासभा के समापन के कुछ दिनों पहले, बयालीस धर्माध्यक्षों ने दोमेतिल्ला काटेकुम्ब में पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान किया और ईश्वर से येसु के प्रति विश्वस्त बने रहने और गरीबों की सेवा में समर्पित रहने हेतु कृपा मांगी। पवित्र मिस्सा के बाद, उन्होंने "गरीब और सेविका कलीसिया के काटेकुम्ब समझौते" पर हस्ताक्षर किए। बाद में, 500 से अधिक प्रतिभागी धर्माध्यक्षों ने समझौते में अपने नाम जोड़े।

धर्माध्यक्षओं के नक्शेकदम पर चलते हुए नए रास्ते निकाले

50 से अधिक वर्षों बाद, उन धर्माचार्यों की विरासत को पान-अमाजोन क्षेत्र के लिए धर्मसभा में प्रतिभागियों के एक समूह द्वारा लिया गया था, जो कि "कलीसिया और एक अभिन्न पारिस्थितिकी के लिए नए रास्ते" विषय पर केंद्रित है। धर्मसभा के लिए जनरल रिलेटर कार्डिनल क्लाउदियो ह्यूमेस ने काटेकुम्ब में पवित्र मिस्सा समारोह की अध्यक्षता की, जिसके बाद मौजूद धर्माध्यक्षों ने आम घर के लिए एक नए “काटेकुम्ब समझौते” पर हस्ताक्षर किया। एक अमाजोनियन गरीब, सेवक, नबी और समारितानी चेहरे के साथ कलीसिया।”

कार्डिनल ह्यूम्स: धर्मसभा एक निर्णायक फल है

कार्डिनल ह्यूम्स ने अपने प्रवचन में याद किया कि काटेकुम्ब प्राचीन कब्रिस्तान थे जहां ख्रीस्तियों ने अपने शहीदों को दफनाया था: "यह वास्तव में पवित्र जमीन है"। यह स्थान, हमें कलीसिया के शुरुआती कठिन समय, उत्पीड़न द्वारा चिह्नित लेकिन बहुत विश्वास से भरा समय की याद दिलाती है। कार्डिनल ह्यूम्स ने कहा, कलीसिया को" यहां और येरुसालेम, अपनी जड़ों के पास हमेशा लौटना चाहिए।"

आम घर के लिए काटेकुम्ब समझौता

रविवार को हस्ताक्षरित दस्तावेज़ में, अमाजोन पर धर्मसभा के प्रतिभागियों ने याद किया कि वे कई आदिवासी लोगों, नदी किनारे के निवासियों, प्रवासियों और उपनगरीय समुदायों के बीच रहने की खुशी को साझा करते हैं। उनके साथ, उन्हें "सबसे दीन लोगों के साथ काम करने वाली सुसमाचार की शक्ति" का अनुभव हुआ। दस्तावेज़ कहता है, "इन लोगों के साथ मुलाकात", "हमें चुनौती देती है और हमें साझा करने और कृतज्ञता के साथ एक सरल जीवन के लिए आमंत्रित करता है"। दस्तावेज़ के हस्ताक्षरकर्ता खुद को "गरीबों के लिए तरजीही विकल्प को नवीनीकृत करने", "हर प्रकार के उपनिवेशवादी मानसिकता एवं पद" को छोड़ने और "येसु मसीह के सुसमाचार की मुक्ति की नवीनता" की घोषणा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। वे "समुदायों में पहले से मौजूद प्रेरितिक कार्यों" को पहचानने और "अतीत की कार्रवाई के नए मार्ग" की तलाश शुरु करते हैं।

आम घर के लिए एक नए “काटेकुम्ब समझौते में अन्य प्रतिबद्धताओं में "दूसरे ख्रीस्तीय समुदायों के साथ मिलकर चलना" और उपभोक्तावाद के हिमस्खलन से पहले "खुशी से शांत जीवन शैली को अपनाना" शामिल है। उन्होंने "पहले से ही समुदायों में मौजूद कलीसियाई कार्यकलापों" को पहचानने का वादा किया और वे "प्रेरितिक कार्यों के नए रास्ते" की तलाश करते हैं।

हस्ताक्षरकर्ताओं ने कहा, "इस तरह की महान और गंभीर चुनौतियों के सामने हम अपनी निर्बलता, गरीबी और कमजोरियों से अवगत हैं और "हम कलीसिया की प्रार्थना में खुद को प्रतिबद्ध करते हैं।"

21 October 2019, 17:07