खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (AFP or licensors)

येसु रोते हैं जब हम उनके प्रेम को अस्वीकार करते हैं

ईश्वर हमें प्यार करते हैं जिसको हम महसूस कर सकते हैं क्योंकि यह मानवीय है। प्रेम तभी किया जा सकता है जब पाने वाला अपने आप को खोले और उसे स्वीकार करे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 31 अक्टूबर 2019 (रेई)˸ ईश्वर हमें प्यार करते हैं जिसको हम महसूस कर सकते हैं क्योंकि यह मानवीय है। प्रेम तभी किया जा सकता है जब पाने वाला अपने आप को खोले और उसे स्वीकार करे।

संत पापा फ्राँसिस ने 31 अक्टूबर के ट्वीट संदेश में ईश्वर के प्रेम पर प्रकाश डालते हुए लिखा, "ईश्वर का प्रेम येसु के कोमल आँसू में व्यक्त हुआ। जब उन्होंने येरूसालेम के लिए रोया और उसी तरह हमारे लिए भी रोते हैं जब हम उनके प्रेम को अस्वीकार करते हैं। यही ईश्वर का कोमल स्नेह है।"

31 October 2019, 17:29