खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (ANSA)

पवित्र जीवन जीने हेतु नाविकों की मदद करें, संत पापा

सोमवार को भेजे गए एक वीडियो संदेश में, संत पापा फ्राँसिस ने अंतरराष्ट्रीय ख्रीस्तीय मैरीटाइम एसोसिएशन (आइसीएमए) को "ईसा मसीह को जानने और उनकी शिक्षाओं के अनुसार जीने हेतु समुद्र में काम करने वालों की मदद करने" के लिए प्रोत्साहित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 21 अक्टूबर 2019 ( वाटिकन न्यूज) : अंतरराष्ट्रीय ख्रीस्तीय मेरीटाइम एसोसिएशन एक गैर-लाभकारी ख्रीस्तीय संघ है जो 1969 से दुनिया भर के समुद्री यात्रियों और कार्यकर्ताओं के साथ काम कर रही है।

काऊशुंग, ताइवान में 21 से 25 अक्टूबर तक हो रहे 11वें विश्व सम्मेलन का विषय "नाविकों, मछुआरों और उनके परिवारों के लिए एक साथ काम करने के 50 साल," संघ की प्रकृति और घटना को दर्शाता है।

संत पापा का संदेश

संत पापा फ्राँसिस ने अंतरराष्ट्रीय ख्रीस्तीय मेरीटाइम एसोसिएशन को स्वर्ण जयंती की बधाई दी। संत पापा ने सोमवार को भेजे संदेश में उन्हें प्रोत्साहित करते हुए कहा, "यह सालगिरह आपको, समुद्र के लोगों के लिए आपकी सेवा को नए सिरे से जारी रखने का मौका देता है।"

उन्होंने स्टेला मारिस प्रतिनिधियों को संत पापा जॉन पॉल द्वितीय के 1997 के प्रेरितिक पत्र की याद दिलायी, जिन्होंने समुद्री यात्रियों और उनके परिवारों की प्रेरितिक देखभाल के बारे में लिखा है।

संत पापा फ्राँसिस ने उन्हें "येसु मसीह को जानने के लिए और उनकी शिक्षाओं के अनुसार सम्मान और पारस्परिक स्वागत के साथ जीने, समुद्र में काम करने वालों और यात्रा करने वालों की मदद करने" के लिए आमंत्रित किया।

उन्होंने कठिनाइयों का सामना करने के लिए प्रोत्साहन के शब्दों के साथ अपने संदेश को समाप्त किया और अंतरराष्ट्रीय ख्रीस्तीय मेरीटाइम एसोसिएशन के सम्मेलन में उपस्थित सभी लोगों को आशीर्वाद दिया।

21 October 2019, 16:42