खोज

Vatican News
धर्माध्यक्षीय अभिषेक समारोह धर्माध्यक्षीय अभिषेक समारोह  (AFP or licensors)

अपने रेवड़ की देखभाल स्नेह से करें, नये धर्माध्यक्षों से संत पाप

संत पापा फ्राँसिस ने 4 अक्टूबर को वाटिकन के संत पेत्रुस महागिरजाघर में चार पुरोहितों का धर्माध्यक्षीय पावन अभिषेक सम्पन्न किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 5 अक्तूबर 2019 (रेई)˸ उन्होंने फादर माइकेल चरनी येसु समाजी, मोनसिन्योर अंतोइने कमिल्लेरी, मोनसिन्योर पाओलो रूदेल्ली और मोनसिन्योर पाओलो बोरजिया का अभिषेक किया जो 5 अक्टूबर को कार्डिनल बनाये जायेंगे।

संत पापा ने प्रवचन में कलीसिया की जिम्मेदारी पर चिंतन किया जिसके लिए नये धर्माध्यक्ष बुलाये गये हैं। उन्होंने कहा कि उन जिम्मेदारियों में से एक है प्रेरितों द्वारा हस्तांतरित प्रेरितिक मिशन को बनाए रखना।

अखंड उत्तराधिकार

संत पापा ने कहा, "बारहों (प्रेरित) एक साथ जमा हुए और उन पर हाथ रखकर, ख्रीस्त द्वारा प्राप्त पवित्र आत्मा को हस्तांतरित किया।" उन्होंने कहा कि कलीसिया की जीवित परम्परा में धर्माध्यक्षों के अखंड उत्तराधिकार द्वारा इस प्रमुख मिशन को सुरक्षित रखा गया है और इसके द्वारा मुक्ति का कार्य जारी है एवं हमारे समय में भी आगे बढ़ रहा है।  

येसु ख्रीस्त

संत पापा ने कहा कि येसु ख्रीस्त ही हैं जो धर्माध्यक्षों के मिशन में मुक्ति के सुसमाचार की घोषणा करते और विश्वास के संस्कारों द्वारा विश्वासियों को पवित्र करते हैं। ख्रीस्त ही धर्माध्यक्षों की प्रज्ञा और विवेक हैं जो अनन्त आनन्द की ओर पृथ्वी की तीर्थयात्रा में ईश प्रजा का मार्गदर्शन करते हैं।

चार नये धर्माध्यक्ष
चार नये धर्माध्यक्ष

प्रभु द्वारा चुने गये

नये धर्माध्यक्षों को सम्बोधित करते हुए संत पापा ने कहा कि वे प्रभु द्वारा चुने गये हैं। धर्माध्यक्ष एक सेवा का पद है न कि सम्मान का, अतः धर्माध्यक्ष प्रशासन से अधिक सेवा के लिए उत्तरदायी है।

संत पापा ने उन्हें अनुकूल एवं प्रतिकूल दोनों ही परिस्थितियों में ईश वचन की घोषण करने का प्रोत्साहन दिया।

विश्वस्त पहरेदार

संत पापा ने नये धर्माध्यक्षों को विश्वस्त पहरेदार बनने एवं ख्रीस्त के रहस्यों का अनुष्ठान करने और भले चरवाहे के आदर्शों पर चलने की सलाह दी जो अपनी भेड़ों को नाम से जानता तथा उनके लिए अपना जीवन अर्पित करने से भी नहीं हिचकिचाता है।  

निराश्रय लोगों से प्रेम

उन्होंने कहा कि धर्माध्यक्षों को उन सभी लोगों को प्यार करना है जिन्हें ईश्वर ने उनके लिए सौंपा है, विशेषकर, पुरोहितों और उपयाजकों को किन्तु उनके साथ-साथ उन्हें भी प्यार करना है जो गरीब, निराश्रय और जिनके लिए मदद एवं सेवा की आवश्यकता है।

रेवड़ की देखभाल

अंततः संत पापा ने अपने प्रवचन में कहा कि धर्माध्यक्षों को अपने पूरे झुंड की देखभाल स्नेह से करना है। उन्होंने धर्माध्यक्षों से कहा, "पिता जिनकी छवि वे प्रस्तुत करते हैं, येसु ख्रीस्त उनके पुत्र जिनके द्वारा वे गुरू बनाये गये हैं और जिनके सामार्थ्य से उन्हें अपनी कमजोरियों को जीतने का बल मिला है, उनके नाम पर लोगों की देखभाल करें।"

आज 5 अक्टूबर को शाम 4.00 बजे संत पापा फ्राँसिस संत पेत्रुस महागिरजाघर में 13 नये कार्डिनलों की रचना कर रहे हैं। नये कार्डिनलों के नाम इस प्रकार है-

1. धर्माध्यक्ष मिगवेल अंजेल अयूसो क्वीक्सोत एमसीसीजी – अंतरधार्मिक वार्ता हेतु गठित परमधर्मपीठीय समिति के अध्यक्ष।

2. धर्माध्यक्ष जोश तोलेनतिनो कालाका दी मेनदोनका – अभिलेखीय और पवित्र रोमन कलीसिया के लाइब्रेरियन।

3. धर्माध्यक्ष इग्नासियुस सुहारयो हारडजोटमोडजो – जकार्ता के महाधर्माध्यक्ष।

4. धर्माध्यक्ष जोन दे ला करिदाद गरचा रोड्रिग्वेज – हवाना के संत ख्रीस्तोबल के महाधर्माध्यक्ष।

5. धर्माध्यक्ष फ्रिदोलिन अम्बोनगो बेसुनगू ओ.एफ.एम.कैप- किनशासा के महाधर्माध्यक्ष।

6. धर्माध्यक्ष जीन क्लौदे होल्लेरिक एस.जे – लुस्सेमबर्ग के महाधर्माध्यक्ष।

7. धर्माध्यक्ष अलवानो लेओनेल रामाजिनी इमेरी – ह्वेह्वेतेनानगो के धर्माध्यक्ष।

8. धर्माध्यक्ष मात्तेओ जुप्पी – बोलोन्या के महाधर्माध्यक्ष।

9. धर्माध्यक्ष क्रिस्तोबल लोपेज रोमेरो एस.डी.बी. – राबात के महाधर्माध्यक्ष।

10. धर्माध्यक्ष माईकेल चरणी एस.जे. – समग्र मानव विकास हेतु गठित परमधरमपीठीय परिषद में आप्रवासी विभाग के उपसचिव।

11. धर्माध्यक्ष माईकेल लुईस फिटजेराल्ड एम.ए.एफ.आर. – नेपते के महाधर्माध्यक्ष

12. धर्माध्यक्ष सिजितास तामकेविक्युस एस. जे. – कौनास के महाधर्माध्यक्ष

13. धर्माध्यक्ष यूजेनियो दाल कोर्सो पी.एस.डी.पी. – बेंग्वेला के सेवानिवृत धर्माध्यक्ष

05 October 2019, 13:40