Cerca

Vatican News
मॉरिशस के अधिकारियों से मुलाकात करते संत पापा मॉरिशस के अधिकारियों से मुलाकात करते संत पापा  (© Vatican Media)

लोगों के आदर्श बनें, मॉरिशस के अधिकारियों से संत पापा

अपनी प्रेरितिक यात्रा के अंतिम चरण में संत पापा फ्रांसिस ने मॉरिशस के राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री, सरकारी अधिकारियों, राजनयिकों तथा नागर अधिकारियों और धर्मगुरूओं से मुलाकात की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

मॉरिशस, सोमवार, 9 सितम्बर 2019 (रेई)˸  संत पापा ने उन्हें सम्बोधित कर कहा, "मैं मॉरिशस के अधिकारियों का हार्दिक अभिवादन करता हूँ तथा आपके देश में यात्रा करने का निमंत्रण देने के लिए धन्यवाद देता हूँ।"  

आम हित के लिए समर्पित समाज

आपके लोगों के साथ मुलाकात कर मुझे बड़ी खुशी हुई जो न केवल सांस्कृतिक, जातीय और धार्मिक विविधता को जानते बल्कि एक आम योजना के लिए सम्मान एवं मौजूदा मतभेदों का सामंजस्य करना भी जानते हैं। यह आपके लोगों के इतिहास का साराँश बतलाता है। जिसकी उत्पति विभिन्न दिशाओं और महादेशों से आप्रवासियों के आगमन द्वारा हुई है, जिन्होंने अपने साथ अपनी संस्कृति, परम्परा और धर्मों को लाया तथा धीरे-धीरे एक-दूसरे की विविधताओं से समृद्ध होना सीखा। उन्होंने एक साथ जीने और एक ऐसे समाज का निर्माण करने की कोशिश की जो आमहित के लिए समर्पित है।

सामंजस्यपूर्ण विविधता

इस संबंध में, आपके पास एक आधिकारिक आवाज़ है जिसने जीवन का रूप धारण किया। यह आवाज हमें स्मरण दिलाती है कि यदि हम दृढ़ता के साथ शुरू करें तो स्थायी शांति प्राप्त करना संभव है। विविधता एक सुन्दर चीज है यदि हम लगातार सामंजस्य बनाने की प्रक्रिया में प्रवेश करें तथा सांस्कृतिक व्यवस्थान को सील करें जिसके परिणाम स्वरूप सामंजस्यपूर्ण विविधता को हासिल किया जा सकता है। यह बिना किसी को हाशिय पर लगाये, बहिष्कृत अथवा तिरस्कृत किये, वृहद मानव परिवार के अंदर एक सच्ची मित्रता के निर्माण के अवसर की नींव समान है।  

पूर्वजों के उदाहरणों पर चलें

आपके लोगों के डीएनए में आप्रवासियों के उन आंदोलनों की याद सुरक्षित है जिसने आपके पूर्वजों को इस भूमि पर लाया तथा विविधताओं के प्रति खुला होना, एक-दूसरे से जुड़ना और सभी के लाभ के लिए उन्हें प्रोत्साहन देना सिखाया। इसलिए मैं आप को प्रोत्साहन देता हूँ कि आप अपने मूल के प्रति विश्वस्त रहें। दूसरों का स्वागत करने और उन विस्थापितों की रक्षा करने की चुनौतियों को स्वीकार करें जो आज काम और अपने परिवार की बेहतर स्थिति की खोज में आते हैं। अपने पूर्वजों के उदाहरणों पर चलते हुए जिन्होंने एक-दूसरे का स्वागत किया था, आप भी लोगों का स्वागत करें। मुलाकात की संस्कृति के सच्चे नायक और रक्षक बनें जो विस्थापन को संभव बनाता एवं उनकी प्रतिष्ठा और अधिकार का सम्मान करता है।

प्रजातंत्रिक परम्परा

संत पापा ने प्रजातंत्रिक परम्परा की सराहना की जिसने आजादी के बाद जड़ जमायी और मॉरिशस को एक शांति का शरण स्थान बनाया। उन्होंने कहा, मैं उम्मीद करता हूँ कि प्रजातंत्र को जीने की कला को बढ़ाया जा सकेगा, विशेषकर, हर प्रकार से भेदभाव से बचते हुए। "प्रामाणिक राजनीतिक जीवन के लिए, कानून में और व्यक्तियों के बीच स्पष्ट और निष्पक्ष संबंध में नवीनीकरण की आवश्यकता है। जब कभी हम महसूस करते हैं कि लोग नए संबंधपरक बौद्धिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक ऊर्जा को लाते हैं।

उन लोगों के आदर्श बनें जो आप पर भरोसा रखते हैं

संत पापा ने नेताओं का आह्वान करते हुए कहा, "आप में से जितने लोग मॉरिशस के राजनीतिक जीवन से संलग्न हैं, आप उन लोगों के आदर्श बनें जो आप पर भरोसा रखते हैं, खासकर, युवाओं के लिए अपने आचरण और भ्रष्टाचार के सभी रूपों से निपटने के अपने दृढ़ संकल्प द्वारा, आप सार्वजनिक हित की सेवा में समर्पण का वैभव प्रस्तुत करें। आप अपने सह-नागरिकों द्वारा किये गये भरोसे के लायक बने रहें।

आजादी के समय से ही आपके देश ने एक स्थिर आर्थिक विकास को अनुभव किया है जो सचमुच खुशी की बात है किन्तु इसकी रक्षा भी किया जाना है। वर्तमान पृष्टभूमि पर ऐसा दिखाई पड़ता है कि आर्थिक विकास हमेशा सभी के लिए लाभदायक नहीं होता और कई बार कुछ लोगों को अपने तंत्र एवं प्रक्रियाओं से दरकिनार भी कर देता है। इसीलिए मैं आप लोगों को एक आर्थिक नीति को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहन देता हूँ जो लोगों पर ध्यान दे तथा आय के बेहतर वितरण को महत्व दे। रोजगार के निर्माण एवं गरीबों के उत्थान को अहमियत दे।

मूर्तिपूजक आर्थिक तंत्र

आपको प्रोत्साहन देता हूँ कि मूर्तिपूजक आर्थिक तंत्र के प्रलोभन में न पड़ें जो सट्टा और लाभ की वेदी पर मानव जीवन का बलिदान करना चाहता है। केवल तात्कालिक लाभ पर विचार करने से गरीबों, पर्यावरण और इसके संसाधनों की रक्षा को हानि पहुँचती है। यह रचनात्मक दृष्टिकोण की ओर बढ़ने हेतु जोर देता है जैसा कि कार्डिनल पियात ने मॉरिशस की आजादी की 15वीं वर्षगाँठ पर लिखा था कि अभिन्न पारिस्थितिक बदलाव के लिए काम करना है। एक ऐसा बदलाव जो न केवल भयानक जलवायु परिस्थिति या अत्यधिक प्राकृतिक तबाही को दूर करना चाहता है बल्कि जिस तरीके से हम जीते हैं उसमें भी एक परिवर्तन को बढ़ावा देना, ताकि बिना पारिस्थितिक तबाही या गंभीर सामाजिक संकट के आर्थिक विकास द्वारा सबको लाभ हो सके।  

धर्मों के बीच सामंजस्य  

संत पापा ने मॉरिशस में विभिन्न धर्मों के बीच सामंजस्य की सराहना करते हुए कहा, "मैं इस बात की सराहना करना चाहता हूँ कि किस तरह यहाँ मॉरिशस में अलग- अलग धर्मावलम्बी अपनी पहचान को सम्मान देने के साथ, सामाजिक सौहार्द को सहयोग देने के लिए हाथ से हाथ मिलाकर काम करते हैं तथा हर प्रकार के अभाव के खिलाफ जीवन के मूल्य को ऊपर उठाते हैं।"

मॉरिशस के काथलिकों को संत पापा की सलाह

उन्होंने मॉरिशस के काथलिकों के प्रति अपनी हार्दिक इच्छा व्यक्त करते हुए कहा कि वे विभिन्न धर्मों के बीच इस फलप्रद वार्ता को जारी रखें जिसने आपके लोगों के इतिहास को गहराई से प्रभावित किया है। उन्होंने उनके साक्ष्य के लिए धन्यवाद दिया।

संत पापा ने अंत में कहा, "आपके हार्दिक स्वागत के लिए धन्यवाद। ईश्वर से कामना करता हूँ कि वह आपके लोगों पर तथा एक न्यायपूर्ण समाज के विकास में विभिन्न संस्कृतियों, सभ्यताओं और धार्मिक परम्पराओं को बढ़ाने के प्रयासों पर आशीर्वाद प्रदान करें।" एक ऐसे समाज के निर्माण में जो युवाओं एवं सबसे बढ़कर कमजोर लोगों को नहीं भूलता है। ईश्वर का प्रेम एवं उनकी करूणा आपके साथ हो और आपकी रक्षा करता रहे।

    

09 September 2019, 16:05