खोज

Vatican News
मोजाम्बिक की यात्रा संत पापा फ्रांसिस मोजाम्बिक की यात्रा संत पापा फ्रांसिस  (Vatican Media)

मोजाम्बिकों को संत पापा की कृतज्ञता

मोजाम्बिक की अपनी यात्रा के दूसरे दिन संत पापा ने मापुतो के जिमपेतो स्टेडियम में यूखारिस्तीय बलिदान के अंत में मोजाम्बिक के लोगों के प्रति अपनी कृतज्ञता के भाव अर्पित किये।

दिलीप संजय एक्का-वाटिकन सिटी

मोजाम्बिक शुक्रवार, 6 सितम्बर 2019 (रेई) संत पापा फ्रांसिस ने मोजाम्बिक की अपनी दो दिवसीय प्रेरितिक यात्रा का समापन मापुतो में विश्वासियों के संग ख्रीस्तीयाग अर्पित करते हुए किया।

संत पापा ने मिस्सा के अंत में मोजाम्बिक वासियों के प्रति अपने हृदय उद्गार प्रकट किये। उन्होंने कहा कि अपनी यात्रा के अंत मैं आप प्रत्येक का और उन दलों धन्यवाद अदा करना चाहता हूँ जिन्होंने मेरी इस यात्रा को सफल बनाने हेतु कड़ी मेहनत की। उन्होंने मापुतो के महाधर्माध्यक्ष डोम फ्रांसिस्को कीमोईओ को धर्मप्रांत के सभी विश्वासियों की ओर से धन्यवाद दिया। राष्ट्रपति फिलिपे नयुसी के प्रति संत पापा ने अपने विशेष उद्गार के भाव प्रकट किये जिन्होंने व्यक्तिगत और सरकारी स्तर पर उनकी सुरक्षा की व्यवस्था की। उन्होंने आयोजन समिति और स्वयंसेवियों के कार्य हेतु उन्हें धन्यवाद देते हुए पत्रकारों और उनका अभिवादन किया जो उनसे मिलने हेतु आये।  

आशा न खोयें

संत पापा ने कहा,“मोजाम्बिक के भाइयो और बहनों, इस मिस्सा बलिदान में सहभागी होने हेतु अपने एक बड़ा त्याग किया है। मैं इसी प्रशंसा करता हूँ और इसके लिए मैं आप सभों का दिल से धन्यवाद अदा करता हूँ।” मैं उनके प्रति भी आभारी हूँ जो हाल ही में आये चक्रवात के कारण इस समारोह में सहभागी नहीं हो सकें। मैंने आपकी सहायता का एहसास किया है। उन्होंने कहा कि मैं आप सभों से कहना चाहता हूँ कि आप आशा में सदा बने रहें। “कृपया आप अपनी आशा को न खोयें।” और एकता में बने रहने से अच्छा इसका और दूसरा विकल्प नहीं है जो भविष्य में मोजाम्बिक को शांति और मेल-मिलाप का देश बनायेगा। ईश्वर आप सभों को आशीष प्रदान करे और कुंवारी मरियम आप की रक्षा करे।

06 September 2019, 11:41