खोज

Vatican News
सन्त पापा फ्राँसिस मोज़ाम्बिक के राष्ट्रपति फिलिप न्यूसी के साथ, 14.09.2018 सन्त पापा फ्राँसिस मोज़ाम्बिक के राष्ट्रपति फिलिप न्यूसी के साथ, 14.09.2018 

मोज़ाम्बिक यात्रा से पूर्व सन्त पापा ने भेजा विडियो सन्देश

सन्त पापा फ्राँसिस ने मोज़ाम्बिक की यात्रा के पूर्व 30 अगस्त को एक सन्देश प्रेषित कर सम्पूर्ण अफ्रीका में पुनर्मिलन एवं स्थायी शान्ति की शुभकामनाएँ अर्पित की।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 30 अगस्त 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): सन्त पापा फ्राँसिस ने मोज़ाम्बिक की यात्रा की पूर्वसन्ध्या शुक्रवार 30 अगस्त को अफ्रीकी देश की जनता को एक विडियो सन्देश प्रेषित कर सम्पूर्ण अफ्रीका में पुनर्मिलन एवं स्थायी शान्ति की शुभकामनाएँ अर्पित की हैं।

04 से 10 सितम्बर तक सन्त पापा फ्राँसिस मोज़ाम्बिक, मडागास्कर एवं मोरिशियस की यात्रा कर रहे हैं।

अफ्रीका में पुनर्मिलन की आशा 

विडियो सन्देश इस प्रकार है, "मोज़ाम्बिक के प्रिय लोगो, कुछ ही दिनों में आपके देश में मेरी प्रेरितिक यात्रा शुरु होने वाली है, हालांकि, राजधानी से परे मैं नहीं जा पाऊँगा तथापि, मेरा हृदय आप सब तक विस्तृत है तथा सभी का, विशेष रूप से जो लोग कठिनाइयों से गुज़र रहे हैं उनका मैं हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। आप सबको मैं अपनी प्रार्थनाओं का आश्वासन देता हूँ तथा आप सबसे मिलने के लिये मैं आतुर हूँ। मुझे निमंत्रण भेजने के लिये मैं मोज़ाम्बिक के राष्ट्रपति तथा मेरे धर्माध्यक्ष भाइयों के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ। साथ ही आप सबको आमंत्रित करता हूँ कि आप सब मेरे साथ मिलकर पिता ईश्वर से प्रार्थना करें कि ईश्वर, मोज़ाम्बिक एवं सम्पूर्ण अफ्रीका में, पुनर्मिलन एवं सामंजस्यपूर्ण भ्रातृत्व को समेकित करें क्योंकि केवल वही ठोस एवं स्थायी शांति की आशा हैं।"

सुसमाचार मानव प्रतिष्ठा का पाठ

उन्होंने कहा, "इन आकाँक्षाओं को आपके साथ साझा करने की मुझे बेहद खुशी होगी और यह भी देखने का मौका मिलेगा कि मेरे पूर्ववर्ती स्व. सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय ने जो बीज आरोपित किया था वह किस तरह पनप रहा है। यह यात्रा मुझे मोज़ाम्बिक के काथलिक समुदाय से मुलाकात करने तथा उसे सुसमाचार के साक्षी बनने में सुदृढ़ करने का सुअवसर देगी, जो प्रत्येक मानव की प्रतिष्ठा और गरिमा का पाठ पढ़ाता तथा हम सबसे अन्यों के प्रति, विशेष रूप से, ज़रूरतमन्दों के प्रति अपने मन के द्वारों को खोलने का आग्रह करता है। आपके देश पर पिता ईश्वर की आशीष एवं पवित्र कुवाँरी मरियम के संरक्षण का आह्वान करते हुए मैं आप सबको हार्दिक धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ।"       

30 August 2019, 11:53