खोज

Vatican News
फ्राँस में माता मरियम का जुलूस फ्राँस में माता मरियम का जुलूस  (ANSA)

नई मानवता के निर्माता बनें, पेरिस धर्मप्रांत से संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने पेरिस के महाधर्माध्यक्ष माइकेल अरूपेतीत तथा वहाँ के विश्वासियों को एक संदेश भेजा है तथा निमंत्रण दिया है कि वे नई मानवता के निर्माता बनें जिसकी नींव येसु ख्रीस्त में हो।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 17 अगस्त 2019 (रेई)˸ संत पापा ने यह संदेश 15 अगस्त को धन्य कुँवरी मरियम के स्वर्गोदग्रहण पर्व के दिन भेजा। इसके ठीक चार माह पहले 15 अप्रैल को पेरिस के नोट्र-डम (हमारी कुँवारी मरियम) महागिरजाघर में आग लग गयी थी। फ्राँस की राजधानी पेरिस महाधर्मप्रांत में कुँवारी मरियम के स्वर्गोदग्रहण महापर्व के अवसर पर परम्परा के अनुसार माता मरियम के सम्मान में जुलूस की गई। संत लुईस पुल से शुरू कर सैकड़ों विश्वासी अपने हाथ में रोजरी माला लिए और मरियम का गीत गाते हुए संत सुलपीचे गिरजाघर पहुँचे जहाँ महाधर्माध्यक्ष अरूपेतीत ने ख्रीस्तयाग अर्पित किया।   

संत पापा का संदेश

ख्रीस्तयाग के अंत में नोट्र-डम के रेक्टर मोनसिन्योर पौल कौवेत ने संत पापा के संदेश को विश्वासियों के सामने प्रस्तुत किया। वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन द्वारा लिखे पत्र में संत पापा फ्रांसिस ने पेरिस के विश्वासियों के प्रति अपना आध्यात्मिक सामीप्य व्यक्त है।  

उन्होंने संदेश में लिखा है कि एक सच्ची माता की तरह मरियम हमारे साथ चलती, कष्ट उठाती तथा अथक रूप से ईश्वर के प्रेम का प्रचार करती हैं। वे उन सभी लोगों के जीवन में साथ देती हैं जो सुसमाचार को ग्रहण करते और उसके ऐतिहासिक पहचान में सहभागी होते हैं। संत पापा ने संदेश में माता मरियम की मध्यस्थता द्वारा ईश्वर से प्रार्थना की कि महागिरजाघर का पुनर्निर्माण उनपर (ईश्वर) विश्वास करने वालों के विश्वास के पुनर्जन्म और पुनरोद्धार का एक शक्तिशाली चिन्ह बने, ताकि पूर्ण आशा के साथ, वे अपने परिवारों, समुदायों और जहाँ कहीं रहते हैं वे एक नई मानवता के निर्माता बन सकें जिसकी नींव ख्रीस्त पर हो।

फ्राँस के मरियम के समर्पण का नवीनीकरण

ख्रीस्तयाग के दौरान महाधर्मध्यक्ष अरूपेतीत ने परम्परा के अनुसार राजा लुईस 13वें के मन्नत को दोहराया, जिसके अनुसार फ्रांस को माता मरियम को समर्पित की जाती है। यह मन्नत पहली बार 10 फरवरी 1638 में ली गयी थी।  

17 August 2019, 15:58