खोज

Vatican News
कोनसोलात्रिचे पल्ली में पवित्र संस्कार की शोभायात्रा कोनसोलात्रिचे पल्ली में पवित्र संस्कार की शोभायात्रा 

सांता मरिया कोनसोलात्रिचे पल्ली में पवित्र संस्कार की शोभायात्रा

कार्डिनल अंजेलो डी दोनातीस ने कास्तेल बेरतोने क्षेत्र के सांता मरिया कोनसोलात्रिचे पल्ली के प्रांगण में उस क्षेत्र के 7 पल्ली वासियों के साथ मिलकर प्रभु के शरीर और रक्त महोत्सव में पवित्र संस्कार की शोभायात्रा का नेतृत्व किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, सोमवार 24 जून 2019 (वाटिकन न्यूज़) : रविवार 23 जून को संत पापा फ्राँसिस ने संत मरिया कोनसोलात्रिचे पल्ली के प्रांगण में कोरपुस क्रिस्टी याने प्रभु के पवित्र शरीर और रक्त के महोत्सव का ख्रीस्तयाग अर्पित किया।

पवित्र संस्कार एक जुलूस

पवित्र मिस्सा समारोह के तुरंत बाद कासेल बर्तोने की गलियों से होते हुए पवित्र साक्रामेंत की शोभायात्रा निकाली गई  जिसका नेतृत्व संत पापा के विकर कार्डिनल अंजेलो डी दोनातीस ने किया। जुलूस करीब 1.2 किलोमीटर की थी। शोभायात्रा को कासा सेरेना से सटे फुटबॉल मैदान पर समाप्त किया गया। कासा सेरेना, चारिटी मिशनरी धर्मबहनों द्वारा चलाया जाता है जहाँ बेघर लोगों को रखा जाता है।  ‘कासा सेरेना’ बेघर लोगों का घर है। जुलूस में इन्होंने भी भाग लिया था।

अन्य पल्लियों की सहभागिता

सांता मरिया कोनसोलात्रिचे की गायक मंडली ने कोरपुस क्रिस्टी मिस्सा के गान का भार लिया था। पवित्र मिस्सा में उस क्षेत्र के 7 पल्लियों : संत बरनाबस,  संत हेलेन, संत जूलिया बिलियार्ट, संत जोसेफ कापासो, संत लियो, संत लूकस सुसमाचार लेखक और संत मार्सेलिनो और पेत्रुस के काथलिकों ने भाग लिया। इन पिल्लियों ने विश्वासियों की प्रार्थना और पवित्र युखारिस्त के वितरण में सहयोग दिया।। साथ ही इस क्षेत्र से प्रथम परमप्रसाद ग्रहण किये हुए करीब 380 बच्चे, उनके माता-पिता और कासा सेरेना के करीब 150 लोगों के लिए विशेष स्थान आरक्षित था।

पल्ली की 75वीं वर्षगाँठ का उद्घाटन

"कोरपुस क्रिस्टी समारोह के दौरान संत पापा फ्राँसिस ने सांता मरिया कोनसोलात्रिचे पल्ली की 75वीं वर्षगाँठ का उद्घाटन किया। इस पल्ली का दौरा करने वाले संत पापा फ्राँसिस चौथे परमाध्यक्ष हैं उनसे पहले संत पापा पॉल छठे, संत पापा जॉन पॉल द्वितीय और संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने इस दौरा किया था। संत पापा बेनेदिक्त सोहवें जब कार्डिनल बने तो उन्हें इस पल्ली की देख-रेख का भार दिया गया था।

24 June 2019, 16:13