खोज

Vatican News
उत्तरी मकेदुनिया में युवाओं को सम्बोधित करते संत पापा उत्तरी मकेदुनिया में युवाओं को सम्बोधित करते संत पापा  (ANSA)

आप आशा का निर्माण करें

संत पापा ने कहा, "हम डिजिटल दुनिया में प्रवेश कर चुके हैं किन्तु हम संचार या आदान-प्रदान के बारे बहुत कम जानते हैं। हम सभी एक-दूसरे से जुड़े हैं किन्तु एक दूसरे के साथ नहीं हैं। एक साथ होने के लिए आवश्यक है जीवन, उपस्थिति तथा अच्छे या बुरे समय को एक साथ व्यतीत करना।"

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

स्कोपए, मंगलवार, 7 मई 2019 (रेई)˸ मकेदुनिया की एक दिवसीय प्रेरितिक यात्रा में संत पापा फ्राँसिस ने स्कोपए के पास्ट्रल सेंटर में अंतर-धार्मिक एवं अंतर-कलीसियाई सभा में युवाओं को सम्बोधित किया तथा उनसे कहा कि वे स्वप्न देखना कभी बंद न करें।

संत पापा ने एक युवा के सवाल पर गौर करते हुए कहा कि आपने अपनी आशाओं को साझा करते हुए मुझसे प्रश्न किया है कि "क्या मैं बहुत अधिक का स्वप्न देख रहा हूँ।"

उन्होंने कहा, "मैं आपसे कहता हूँ कि कोई भी बहुत अधिक स्वप्न नहीं देख सकता। आज लोगों के लिए एक बड़ी समस्या है जिनमें युवा भी शामिल हैं, कि उन्होंने स्वप्न देखने की क्षमता खो दी है। वे कोई स्वप्न नहीं देखते। जब कोई व्यक्ति स्वप्न नहीं देखता तो उसके अंदर का खालीपन शिकायतों एवं निराशा की भावना से भर जाता है। संत पापा ने कहा कि विलाप की यह स्थिति उन्हें गलत रास्ते पर ले चलती है। यही कारण है कि कोई भी व्यक्ति बहुत अधिक स्वप्न नहीं देख सकता। ख्रीस्तियों एवं मुसलमानों के साथ मिलकर बेचैन दुनिया को आशा प्रदान करना, निश्चय ही, एक उत्तम स्वप्न है।

मदर तेरेसा का उदाहरण

संत पापा ने युवाओं को बतलाया कि वे मदर तेरेसा के समान बनने, हाथों से काम करने, जीवन को गंभीरता से लेने और उसे सुन्दर बनाने के लिए बुलाये गये हैं।

उन्होंने कहा, "मदर तेरेसा ने हमेशा बड़ा स्वप्न देखा और जिसके कारण उसने बड़े स्तर पर प्रेम किया। वह ईश्वर के हाथों में एक पेंसिल बनना चाहती थी और ईश्वर ने इस पेंसिल से इतिहास का नया और अनोखा पृष्ठ लिखना आरम्भ किया।

एक साथ स्वप्न देखना

कोई भी व्यक्ति अपने स्वप्न को अकेले साकार नहीं कर सकता, हमें इसके लिए समुदाय के समर्थन एवं मदद की जरूरत है। संत पापा ने कहा, "एक साथ स्वप्न देखना कितना अच्छा है। दूसरों के साथ स्वप्न देखना एवं दूसरों के विरूद्ध स्वप्न कभी न देखना। सिर्फ अपने आप को देखने के द्वारा हम मरीचिका देखने की जोखिम में पड़ते हैं और उन चीजों की खोज करने की कोशिश करते हैं जो वहाँ है ही नहीं। स्वप्न एक साथ देखे जाते हैं।

सहभागी होना

तब संत पापा ने बतलाया कि उन्होंने किस तरह एक उत्तम पाठ सीखा। यह पाठ उन्होंने लोगों से आमने-सामने बात करने के द्वारा सीखा।  

संत पापा ने कहा, "हम डिजिटल दुनिया में प्रवेश कर चुके हैं किन्तु हम संचार या आदान-प्रदान के बारे बहुत कम जानते हैं। हम सभी एक-दूसरे से जुड़े हैं किन्तु एक दूसरे के साथ नहीं हैं। एक साथ होने के लिए आवश्यक है जीवन, उपस्थिति तथा अच्छे या बुरे समय को एक साथ व्यतीत करना।"

वयोवृद्धों को सुनना

अंततः संत पापा ने युवाओं को प्रोत्साहन दिया कि वे अपने दादा-दादी एवं बुजूर्ग लोगों को सुनने के लिए समय दें। उन्होंने कहा, "जब आपका स्वप्न मंद पड़ जाए, तब आप समुदाय की ओर देखेंगे, एक-दूसरे को अपने हाथों पर लें तथा याद करें कि कुछ है जो सजीव होना चाहता है।

08 May 2019, 16:53