खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (AFP or licensors)

संत पापा ने मध्य अफ्रीका में मार डाली गई धर्मबहन को याद किया

संत पापा ने मध्य अफ्रीकी गणराज्य एक मिशनरी बहन की हत्या को याद करते हुए प्रार्थना का आह्वान किया, जिस दिन उनका शव मिला था, उसी दिन मोजांबिक में एक मिशनरी पुरोहित की हत्या कर दी गई।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 22 मई 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने बुधवारीय आमदर्शन के दौरान अपनी धर्मशिक्षा माला समाप्त करने के उपरांत फ्रेंच भाषी तीर्थयात्रियों का अभिवादन कर कहा, “स्पेन की एक मिशनरी धर्मबहन ने गरीबों की सेवा करते हुए येसु के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया।”  

मिशनरी धर्मबहन की हत्या

77 वर्षीय सिस्टर इनेस निवेल सान्को का मृत शरीर सोमवार सुबह अपने ही घर के पास मिला। ओसरवातोरे रोमानो के अनुसार उसका शरीर नोला गाँव में उसकी ही कार्यशाला में बुरी तरह से विकृत पाया गया। नोला गाँव बर्बरती धर्मप्रांत में आता है। रविवार रात को किसी समय अज्ञात हमलावरों ने सिस्टर इनेस के घर में प्रवेश किया और उसे जबरन उस कार्यशाला में ले गए जहाँ वे नियमित रूप से स्थानीय लड़कियों को अपने जीवन को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए सिलाई सिखाती थी। वहाँ उसके हमलावरों ने उसे निर्वस्त्र कर दिया और उसके शरीर को विकृत कर दिया। सिस्टर इनेस येसु की बेटियों के छोटे, स्थानीय धर्मसमाज की सदस्य थी।  

संत पापा फ्राँसिस ने बताया कि उसने कई दशकों तक नोला की युवा महिलाओं को पढ़ाने में अपना जीवन समर्पित किया और हर कीमत पर इस मिशन में बनी रही। सिस्टर इनेस ने हाल ही में अपनी धर्मबहन से कहा था, "मैं अकेली नहीं हूँ। युवतियां मेरे साथ हैं!”  

मंगलवार सुबह को उनका अंतिम संस्कार किया गया।

मोजाम्बिक में कांगो के पुरोहित की हत्या

 कांगो के एक मिशनरी पुरोहित को भी रविवार को मोजाम्बिक के तटीय शहर बीरा में मार दिया गया।

फीदेस न्यूज एजेंसी के मुताबिक, 34 वर्षीय फादर लांड्री इबिल इकवेल को उनके समुदाय के घर में चाकू मार दिया गया। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई। हत्यारों का पता लगाने की कार्यवाई चल रही है।

2016 में फादर लांड्री का पुरोहिताभिषेक हुआ था। वे येसु और मरिया के पवित्र हृदय धर्मसंघ के सदस्य थे। वे बीरा में नेत्रहीनों के एक संस्थान के निदेशक थे। यह संस्थान नेत्रहीनों की शिक्षा, पुनर्वास और सामाजिक एकीकरण में मदद करती है।

फीदेस को भेजे गए एक बयान में, धर्मसंघ ने उनकी मृत्यु पर शोक व्यक्त किया और प्रार्थना की कि "जहाँ कहीं भी मृत्यु राज करना चाहती है, वहाँ जीवन प्रबल बने।"

22 May 2019, 16:11