खोज

Vatican News
संत पापा स्पोजे में धर्मसंघियों के संग संत पापा स्पोजे में धर्मसंघियों के संग  (ANSA)

मकेदूनिया के पुरोहितों व धर्मसमाजियों को संत पापा का संदेश

संत पापा फ्रांसिस ने उत्तरी मकेदूनिया की अपनी एकदिवसीय प्रेरितिक यात्रा के दौरान 7 मई को सेक्रेड हार्ट महागिरजाघर में, याजकों, धर्मसमाजियों और उनके परिवार के सदस्यों से मुलाकात की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

संत पापा ने इस अवसर के लिए सभों का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि कलीसिया अपने दोनों फेफड़ों, लातीनी और बिजेनटाईन रीति, से पवित्र आत्मा की नई हवा को श्वास ले रही है। हमारे ये दो फेंफड़े हमारे लिए जरुरी और पूरक हैं जिसके द्वारा हम ईश्वर की सुन्दरता का पान करते हैं। हम ईश्वर के इस श्वास के लिए उनका धन्यवाद करते हैं।

जीवन में अपनी संख्या की ओर ध्यान

संत पापा ने उनके दिये गये साक्ष्य के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि आप के साक्ष्य को सुनने के दौरान मैंने मरियम मकदलेना की याद की जिन्होंने जटामांसी के तेल से येसु के पैरों का विलेपन किया था और उन्हें अपने केशों से पोंछा था। सुसमाचार लेखक इस दृश्य के अंत में कहते हैं, “पूरा घर इत्र की खुशबू से सुगंधित हो गया था”(यो.12.3)

हम बहुत बार अपने जीवन में अपनी संख्या की ओर ध्यान देते हैं कि हमारी स्थिति क्या है। हम संख्या में कम हैं वही हमारे घर और प्रेरितिक कार्यों की संख्या बहुत अधिक है। संत पापा ने कहा कि जब कभी हम ऐसा करते हैं तो हम अपने को खतरे की स्थिति में पाते हैं।  

यह सच है कि येसु ने हमें कहा कि जब तुम गृह का निर्माण करते हो तो इसके खर्च का हिसाब करो, नहीं तो तुम अपने शुरू किये गये कार्यों को पूरा करने में असमर्थ रहोगे।(लुका.14.29) लेकिन चीजों का हिसाब करना हमें अपने ऊपर अत्यधिक विश्वास करने के प्रलोभन में डाल सकता है। इस भांति हम अपने को एम्माऊस के उन चेलों के समान पाते हैं जहाँ हम मुख से सुसमाचार की उद्घोषणा करते लेकिन हमारा हृदय निराशा में डूबा, मलिन रहता है परिणाम स्वरूप हम अपनी बगल में चलने वाले की खुशी और आनंद को सुनने में असमर्थ रहते हैं।

चीजों का हिसाब कब संवैधानिक होता है?

चीजों की गिनती करना जरुरी है जब यह हमें उन लोगों को समझने में मदद करता है जो अपने जीवन की दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु सघंर्षरत रहते हैं। वे परिवार जो विकास करने में असमर्थ हैं, वे बुजूर्ग जो परित्यक्त हैं, जो बीमार और खाट पर पड़े हैं, युवा जो अपने भविष्य को लेकर निराश हैं, वे गरीब जो हमें इस बात की याद दिलाते हैं कि एक कलीसिया के रुप में हम गरीब हैं और हमें ईश्वरीय करुणा की जरुरत है। हमारे लिए चीजों का हिसाब करना तब संवैधानिक होता है जब यह दूसरों के साथ हमारे भ्रातृत्वपूर्ण संबंध को मजबूत करता, जब हम हताश और निराशा अपने भाई-बहनों को अपने जीवन में समझ पाते हैं जो उनकी आशा को सजीव बनाता और उन्हें चंगाई प्रदान करते हुए जीवन में आगे बढ़ने हेतु मदद करता है।

संत पापा ने कहा कि इस धरती ने विश्व के लिए संत मदर तेरेसा को दिया जो ईश्वर की ओर से अभिषिक्त की गई थी जिन्होंने मानवता में फैल रही चिंता के कदमों को ईश्वरीय धन्यताओं से ढ़क लिया। उनकी करुणामयी नजरों के कारण कितने ने अपने में शांति पायी, उनके स्पर्श से आराम का अनुभव किया, आशा से आशवान बने और उनके विश्वास के साहस से अपने को पोषित पाया। यह हमारे वर्तमान समय में उन परित्यक्त लोगों को भी इस बात का एहसास दिलाता है कि ईश्वर ने उन्हें नहीं छोड़ा है। इतिहास ऐसे लोगों के द्वारा लिखा जाता है जो भयविहीन होकर अपने जीवन को प्रेम में निछावर करते हैं- जो कुछ तुमने मेरे इन छोटे से छोटे भाइयों में से किसी एक के लिए किया वह तुमने मेरे लिये किया।(मत्ती. 25.40)

हमारे जीवन में शक्ति का रहस्य

हम बहुत बार अपने जीवन में सोचते है कि यदि हम मजबूत, शक्तिशाली और प्रभावकारी है जो चीजें बदलेंगी। लेकिन क्या यह सत्य नहीं कि हमारे जीवन में शक्ति का रहस्य, ताकत और प्रभाव यहाँ तक की हमारी युवा अवस्था हमारी अपनी नहीं वरन् हमारे लिए कहीं और से आती है। अपने जीवन की बुलाहट पर चिंतन करते हुए पुनर्जीवित प्रभु की ओर लौटकर आना हमें अपने जीवन में कैरियरवाद से बचता है। आप अपनी सुविधाओं और सुरक्षा की चीजों से बाहर निकल कर गलियों और शहर के चौवराहों में निकलें। उन स्थानों पर आप अपने बुलाहट और जीवन को नवीन होता पायेंगे। अपने भाई-बहनों के जीवन को पवित्र आत्मा की खुशबू से विलेपन करने के द्वारा हमारा पुरोहिताई जीवन अपनी नवीनता में और अधिक धड़कने लगता है।

संत पापा ने उत्तरी मकेदूनिया के पुरोहितों एवं धर्मसमाजियों को बतलाया कि ईश्वर के बेशर्त प्यार में विश्वास हमें दुनिया में गहराई की ओर खींचती है न कि इसका परित्याग कराती है। उन्होंने सभी पुरोहितों एवं धर्मसमाजियों को उनकी सेवा एवं प्रेरिताई के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। 

08 May 2019, 17:13