Cerca

Vatican News
मेजोगोरिया तीर्थालय मेजोगोरिया तीर्थालय 

संत पापा ने मेजोगोरिया तीर्थयात्राओं को अधिकृत किया

संत पापा द्वारा आधिकारिक रुप से मेजोगोरिया तीर्थयात्राओं की घोषणा प्रेरितिक राजदूत और प्रेरितिक पर्यवेक्षक, महाधर्माध्यक्ष हेनरिक होसर ने की। वाटिकन प्रेस कार्यालय के अंतरिम निदेशक जिसोत्ती ने घोषणा के बारे कहा कि मेजोगोरिया तीर्थयात्रा "अच्छे फल के पक्ष में और बढ़ावा देने के लिए दिया गया, लेकिन इसका अर्थ "ज्ञात घटनाओं का प्रमाणीकरण" नहीं है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 13 मई 2019 (वाटिकन सिटी) : संत पापा फ्राँसिस ने मेजोगोरिया की माता मरियम तीर्थयात्राओं को अधिकृत किया। अब से धर्मप्रांतीय स्तर पर या पल्ली स्तर पर सामूहिक रुप में तीर्थायात्रा का आयोजन किया जा सकता है। पहले भी ख्रीस्तीय मेजोगोरिया की तीर्थयात्रा करते थे परंतु व्यक्तिगत रुप से इसकी व्यवस्था की जाती थी। संत पापा के घोषणा की सूचना रविवार को पल्ली तीर्थालय में पवित्र मिस्सा के दौरान हेरजो-गोविना के प्रेरितिक राजदूत लूइजी पेज्जूत्तो की उपस्थिति में परमधर्मपीठ के विशेष प्रेरितिक पर्यवेक्षक,  महाधर्माध्यक्ष हेनरिक होसर ने की।

तीर्थयात्रा ज्ञात घटनाओं को प्रमाणित नहीं करता

वाटिकन प्रेस कार्यालय के अंतरिम निदेशक अलेसांद्रो जिसोत्ती ने घोषणा के बारे में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि संत पापा द्वारा तीर्थयात्रा की छूट को ज्ञात घटनाओं के प्रमाणीकरण के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए, इसके लिए अभी भी कलीसिया द्वारा परीक्षा की आवश्यकता है। इसलिए, इस तरह के तीर्थयात्राओं के बारे में सैद्धांतिक दृष्टिकोण से भ्रम या अस्पष्टता पैदा करने से बचने के लिए देखभाल की जानी चाहिए। हर धर्मसमाज और धर्मप्रांतीय पुरोहितों को इस बात की जानकारी होनी चाहिए जो मेजोगोरिया में तीर्थयात्रा और पवित्र मिस्सा के अनुष्ठान के मकसद से जाते हैं।

प्रेरितिक देखभाल

जिस्सोत्ती ने कहा, "मेजोगोरिया जाने वाले तीर्थयात्रियों की भारी संख्या और प्रचुर मात्रा नें अनुग्रह प्राप्ति को ध्यान में रखते हुए उनके प्रेरितिक देखभाल हेतु संत पापा ने इस प्राधिकरण को दिया। इसका उद्देश्य तीर्थयात्रा के लिए लोगों को उत्साहित करना और अच्छे फल को बढ़ावा देना है।”

संत पापा फ्राँसिस ने 31 मई 2018 को पोलैंड के सेवानिवृत महाधर्माध्यक्ष होसर को मेजोगोरिया पल्ली में प्रेरितिक पर्यवेक्षक नियुक्त किया था और एक साल बाद संत पापा ने मेजोगोरिया तीर्थयात्राओं को अधिकृत किया।

प्रेरितिक पर्यवेक्षक की नियुक्ति और संत पापा के प्राधिकरण की घोषणा, दोनों, मेजोगोरिया में जून 1981 से जो कुछ होता आ रहा है, उसकी प्रामाणिकता से संबंधित सैद्धांतिक प्रश्नों से परे हैं। घटना जो अभी तक समाप्त नहीं हुई है। माता मरियम का दर्शन करने वाले छह लोगों में से, तीन इस बात का साक्ष्य देते हैं कि अभी भी "शांति की महारानी" हमेशा दोपहर में एक ही समय में और जहाँ भी वे होते हैं, रोज ही झलक देख पाते हैं, वे हैं, विकी जो मेजोगोरिया में रहते हैं, मरिया जो मोंजा में रहती है और इवान जो संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते हैं लेकिन अक्सर घर लौटते हैं। एक चौथी मिरजाना, का कहना है कि वह हर महीने 2 तारिख को माता मरिया की झलक देखती है, जबकि अन्य दो को माता मरिया एक वर्ष में एक बार दर्शन देती हैं।

13 May 2019, 16:54