खोज

Vatican News
वेनेज़ुएला संकट के चलते कोलोम्बिया पहुँचे शरणार्थी वेनेज़ुएला संकट के चलते कोलोम्बिया पहुँचे शरणार्थी  (AFP or licensors)

वेनेज़ुएला, इरादों को सत्यापित करना ज़रूरी, सन्त पापा

वेनेज़ुएला में जारी राजनैतिक संकट पर वाटिकन ने कहा है कि मध्यस्थता से पूर्व सन्त पापा फ्राँसिस दोनों पक्षों के इरादे को सत्यापित करना चाहते हैं। इसी बीच, वेनेज़ुएला की कलीसिया शान्तिपूर्ण समाधान पर बल दे रही है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 8 फरवरी 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): वेनेज़ुएला में जारी राजनैतिक संकट पर वाटिकन ने कहा है कि मध्यस्थता से पूर्व सन्त पापा फ्राँसिस दोनों पक्षों के इरादे को सत्यापित करना चाहते हैं. इसी बीच, वेनेज़ुएला की कलीसिया शान्तिपूर्ण समाधान पर बल दे रही है.    

वेनेज़ुएला के संकट पर परमधर्मपीठ की ओर से मध्यस्थता की सम्भावना पर पत्रकारों के प्रश्न का जवाब देते हुए वाटिकन प्रेस कार्यालय के अन्तरिम निर्देशक आल्लेसान्द्रों गिसोत्ती ने कहा, “परमधर्मपीठ दोनों पक्षों के इरादों को सत्यापित करने के अधिकार को सुरक्षित रखती है”, उन्होंने कहा, लग पता लगाना भी नितान्त आवश्यक है कि मध्यस्थता के लिये उपयुक्त स्थिति मौजूद है अथवा नहीं.

मध्यथता केवल दोनों पक्षों के अनुरोध पर

आबू धाबी से मंगलवार को रोम लौटते समय विमान पर पत्रकारों से बातचीत में सन्त पापा फ्राँसिस ने कहा था , “हम देखेंगे क्या किया जा सकता है किन्तु मध्यस्थता के लिये दोनों पक्षों द्वारा इसका निवेदन किया जाना ज़रूरी है . पर्यवेक्षक के होने अथवा सहायता के अनुरोध से पूर्व यह एक शर्त है जिसमें दोनों की मंज़ूरी अनिवार्य है. "

सन्त पापा ने पत्रकारों से बीतचीत में वेनेज़ुएला के संकट के समाधान हेतु वाटिकन राज्य सच्चिवालय के संकल्प की भी पुष्टि की थी और बताया था कि वेनेज़ुएला की सरकार एवं विपक्षी दलों के बीच सान्तो दोमिन्गो में हुई वार्ताओं में वाटिकन के प्रतिनिधि भी शामिल थे . इसके अतिरिक्त, उन्होंने स्मरण दिलाया कि वाटिकन कूटनैतिक माध्यम से भी वेनेज़ुएला की समस्याओं के समाधान के लिये क्रियाशील रहा है.  

पनामा में वेनेज़ुएला का ध्यान

टरतलब है कि वेनेज़ुएला का संकट 23 जनवरी को अपने चरम पर पहुँचा जब राष्ट्रीय एसेम्ब्ली के नेता हुवान गोइदो ने स्वतः को अन्तरिम राष्ट्रपति घोषित कर दिया था. 23 जनवरी को ही सन्त पापा फ्राँसिस ने विश्व युवा दिवस के उपलक्ष्य में पनामा की यात्रा आरम्भ की थी. पनामा में 27 जनवरी को उन्होंने वेनेज़ुएला की याद कर कहा था , “वर्तमान गंभीर स्थिति के समक्ष, मैं प्रभु से याचना करता हूँ कि मानव अधिकारों के सम्मान और , विशेष रूप से, समस्त देशवासियों के कल्याण के लिए वेनेज़ुएला के संकट से उबरने हेतु न्यायपूर्ण और शांतिपूर्ण समाधान की तलाश की जाए. ”  

सन्त पापा की अपीलें

सन्त पापा फ्राँसिस वेनेज़ुएला में व्याप्त राजनैतिक संकट के समापन हेतु कई अपीलें कर चुके हैं. 2014 में मरम्भ राजनैतिक संकट के तुरन्त बाद भीन्होंने सम्वाद को प्रोत्साहन देते हुए एक सन्देश प्रेषित कर, "क्षमा और दया का ेर्य" की बात की थी. उन्होंने कहा था कि स्वतः को "आक्रोश और घृणा" से मुक्त करने के लिए तथा "वास्तव में एक नया रास्ता" अपनाने के लिए, धैर्य और साहस की आवश्यकता होती है किन्तु यही मार्ग हमें शांति और न्याय तक ले जा सकता है ."

धर्माध्यक्षों की उत्कंठा

वेनेज़ुएला के काथलिक धर्माध्यक्ष राष्ट्र के भविष्य को लेकर अत्यधिक उत्कंठित हैं तथा संकट के शान्तिपूर्ण समाधान की आशा करते हैं. र सोने से समृद्ध होने के बावजूद वेनवेज़ुएला कुछ वर्षों से खाद्य एवं प्राथमिक आवश्यकता की कमी से जूझ रहा है. संयुक्त राष्ट्र संघीय खाद्य एवं कृषि संगठन एफएओ के अनुसार, देश की 12 प्रतिशत जनता को पर्याप्त भोजन नहीं मिल पाता है तथा कुपोषण की दर 25 वर्षों में सर्वाधिक ऊँचाई पर है. 2015 के बाद से वेनेज़ुएला के लगभग 23 लाख नागरिकों ने देश से पलायन कर लिया है. 

08 February 2019, 11:26