खोज

Vatican News
यमन के बच्चे भूख से पीड़ित यमन के बच्चे भूख से पीड़ित  (ANSA)

यमन में मानवीय संकट को समाप्त करने के लिए संत पापा की अपील

रविवार को देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा फ्राँसिस ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि वह भोजन के वितरण को सुनिश्चित करने और जनता की भलाई के लिए कार्य करने हेतु समझौतों के अनुपालन को तत्काल बढ़ावा दे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा ने विभिन्न लोगों के प्रति अपनी चिंता व्यक्त की, खासकर, उन्होंने यमन में मानवीय संकट पर गहरी चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा, "लम्बे समय से चल रहे संघर्ष के कारण लोग परेशान हैं तथा बहुत सारे बच्चे भूख से पीडिते हैं किन्तु उनके लिए खाद्य भंडार तक पहुंचना संभव नहीं है।" संत पापा ने कहा कि इन बच्चों और उनके माता पिताओं की पुकार ईश्वर तक पहुँच रही है। अतः उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि वह समझौतों के अनुपालन को प्रोत्साहित करे ताकि भोजन के वितरण को सुनिश्चित तथा जानता की भलाई के लिए काम किया जा सके। उन्होंने यमन के भाई बहनों के लिए प्रार्थना करने का निमंत्रण दिया।

संत पापा ने इटली में जीवन दिवस का स्मरण दिलाते हुए कहा, "आज इटली में जीवन दिवस मनाया जा रहा है जिसकी विषयवस्तु है, "उसका जीवन, उसका भविष्य।" उन्होंने कहा कि मैं धर्माध्यक्षों के संदेश के साथ अपने को जोड़ते हुए उन कलीसियाई समुदायों को प्रोत्साहन देता हूँ जो विभिन्न रूपों में जीवन को बढ़ावा और समर्थन देते हैं, विशेषकर, जीवन के लिए आंदोलन जिनके प्रतिनिधि यहाँ उपस्थित हैं। जन्म को बढ़ावा देने के लिए एक ठोस प्रतिबद्धता अति आवश्यक है। जिसमें संस्थानों और विभिन्न सांस्कृतिक और सामाजिक यथार्थ शामिल होते हैं, जो परिवार को समाज के सामान्य गर्भ के रूप में मान्यता देते हैं।  

संत पापा ने कहा कि 5 फरवरी को पूर्वी देशों में तथा विश्व के विभिन्न हिस्सों में लूनार नव वर्ष मनाया जाता है। मैं प्रत्येक को हार्दिक शुभकामनाएँ देता हूँ तथा उम्मीद करता हूँ कि वे अपने परिवारों में, पड़ोसियों एवं सृष्टि के साथ शांति के साथ जी सकें। उन्होंने शांति की कृपा के लिए प्रार्थना करने का आह्वान किया।

तत्पश्चात् उन्होंने देश-विदेश से एकत्रित सभी तीर्थयात्रियों एवं पर्यटकों का अभिवादन किया।

अंत में, संत पापा ने प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगल-कामनाएँ अर्पित की।

04 February 2019, 16:38