खोज

Vatican News
विमान में पत्रकारों से बातें करते हुए संत पापा फ्राँसिस विमान में पत्रकारों से बातें करते हुए संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

संत पापा : अमीरात में बारिश, ‘आशीर्वाद का चिन्ह’

रविवार को अबू धाबी के लिए रवाना होने पर संत पापा ने विमान में सवार पत्रकारों का अभिवादन किया और उन्हें बुजुर्गों और युवा पीढ़ियों के बीच संबंधों का प्रतिनिधित्व करने वाला एक आइकन दिया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

विमान, सोमवार 4 फरवरी 2019 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस 3 से 5 फरवरी तक संयुक्त अरब अमीरात की अपनी 27वीं प्रेरितिक यात्रा पर हैं। रविवार 3 फरवरी को फ्यूमिचिनो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से अबू धाबी के लिए प्रस्थान किया। विमान में संत पापा ने अपने साथ सवार पत्रकारों का अभिवादन किया।

वाटिकन प्रेस कार्यालय के अंतरिम निदेशक, अलेसांद्रो जिस्सोती ने इन शब्दों से संत पापा का अभिवादन किया, “संत पापा पवित्र,  ऐसा लगता है कि यह कल ही था, जब हम पनामा से वापस आने के लिए उड़ान भरे थे। कई स्वागत पोस्टरों में पनामा के मुस्लिम समुदाय से एक पोस्टर था जो स्पानी भाषा में लिखा था: ‘शांति के दूत’ संत पापा फ्राँसिस आपका स्वागत।  मुझे विश्वास है कि इसी भावना के साथ लोग अमीरात में शांति के वाहक के रूप में, संवाद को मजबूत करने के लिए आपका इंतजार कर रहे हैं।”

आभार और एक आइकन

संत पापा ने पहले पत्रकारों को उनकी उपस्थिति के लिए धन्यवाद दिया और कहा,“आज सुबह मुझे खबर मिली कि अबू धाबी में बारिश हो रही है, और इसे आशीर्वाद का संकेत माना जाता है। आइये, हम यही आशा करें कि सबकुछ अच्छी तरह सम्पन्न हो जाये।”

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "मैंने आप सभी के लिए बोसे के मठ में बनाया गया आइकन की प्रति लाया है, ताकि आप इसे घर ले जा सकें। यह बुजुर्ग और युवा के बीच संवाद के विषय पर है। इस विषय पर मैंने गहराई से चिंतन किया है और मुझे लगता है कि यह एक चुनौती है।”

 वाटिकन संचार विभाग के प्रीफेक्ट पावलो रुफीनी ने आइकन की प्रति पत्रकारों को वितरित किया। आइकन में, एक युवा भिक्षु अपने कंधों पर एक बुजुर्ग भिक्षु को लिये हुए है।

व्यक्तिगत कहानियाँ

पत्रकारों के साथ बात-चीत के दौरान, बीमारों की देखभाल करने वाली धर्मबहनों द्वारा तैयार मिठाइयों को संत पापा को दिया गया।

किसी ने संत पापा को एक अमीराती डॉक्टर की कहानी सुनाई, जिसने इटली में पढ़ाई की थी और हाल के हफ्तों में, संत पापा की प्रेरितिक यात्रा के अवसर पर और संत पापा के प्रति अपना आभार प्रकट करने के लिए यमन में युद्ध के शिकार एक सौ बच्चों का नि:शुल्क ऑपरेशन करने का फैसला किया।

04 February 2019, 15:33